Breaking News

हमेशा मतलब से ही मिलती हो …

हमेशा मतलब से ही मिलती हो (ऐ जिन्दगी )

       कभी तो यूं बेवजह भी मिला करो

दो पल तो बैठो करीब आकर मेरे

        भले ही शिकवा करो, गिला करो

शायद कुछ सुकून मिले दिल को

        शुरू एकबार तो ये सिलसिला करो

मैं बहुत दूर निकल चुकी हूं खुद से

      मिलने का मुझसे कभी तो फैसला करो

गैरों की खातिर टूटने से बेहतर है

    खुद की खातिर बदलने का हौसला करो

यूं टूटकर बिखरने का

    खत्म अब सिलसिला करो

अगर रास आ गये हैं फासले उसे

     तो छोड़ दो तुम भी ना कोई अब गिला करो……

©अनुपम अहलावत, सेक्टर-48 नोएडा      

Check Also

कोरोना …

  यह क्या कोहराम मचा रखा है? यों तो तुम छोटे- बड़े अमीर – गरीब …

error: Content is protected !!