Breaking News

जब से हुई मोहब्बत खुद से …

जब से हुई मोहब्बत खुद से,

जीना मुझे आ गया,

 ताने-बाने सारे पुराने ,

जिंदगी जीना मुझे आ गया,

 जीती थी औरों के लिए ,

अब खुद के लिए जीना आ गया,

 मुस्कुराना बोझ था पहले,

 अब खिलखिलाना आ गया,

 जब से हुई मोहब्बत खुद से,

 खुद को तराशना आ गया,

 रिश्तों को संभालते- संभालते,

 खुद को संभालना आ गया,

 लाख कोशिशें सारी मिन्नतें,

 पानी बनकर बह जाते थे,

 नींद से जागी अब मैं तो,

 अब तो जागना आ गया,

 जब से हुई मोहब्बत खुद से,

 खुद से जीना मुझे आ गया,

 ताश के पत्तों सी थी जिंदगी मेरी,

 अब खुद को समेटना आ गया,

 बिखरे हुए मोती को चुन कर,

 माला पिरोना आ गया,

 गम के पत्थर को पिघलाकर ,

धुएं में उड़ाना आ गया,

 लक्ष्यविहीन  थी जिंदगी  मेरी,

 मंजिल को तलाशना आ गया,

 जीवन किसको कहते हैं,

अब समझ में आ गया,

 खुद को खुद के लिए,

अब तो जीना आ गया………।।

©पूनम सिंह, नोएडा, उत्तरप्रदेश                                 

Check Also

कोरोना …

  यह क्या कोहराम मचा रखा है? यों तो तुम छोटे- बड़े अमीर – गरीब …

error: Content is protected !!