Breaking News

जेठ मास …

 

भाव की भूख लिए

सरल सा दुख लिए

फिरती हूं मारी मारी

जेठ की दुपहरी सी

सागर की रेत सी

जलती हूं कण कण

बूंद-बूंद शीतलता

तरसे बाहर भीतर

ढहती हूं पल पल!

 

©लता प्रासर, पटना, बिहार                                                              

error: Content is protected !!