मध्य प्रदेश

हिंदू महासभा ने ग्वालियर में मनाया राष्ट्रपिता का हत्यारा नाथूराम गोडसे का बलिदान दिवस, अरुण यादव ने ट्वीट कर लिखा- बापू हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिंदा हैं …

ग्वालियर। मध्यप्रदेश के ग्वालियर में एक बार फिर महात्मा गांधी का हत्यारा पंडित नाथूराम गोडसे और हिंदू महासभा सुर्खियों में है। हिंदू महासभा ने गोडसे और नारायण आप्टे की बरसी पर पूजा-अर्चना कर अखंड भारत का संकल्प लिया। हिंदू महासभा कार्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में कई पदाधिकारी और कार्यकर्ता शामिल हुए। उन्होंने संकल्प भी लिया कि ग्वालियर में जल्द ही गोडसे की मूर्ति किसी चौराहे पर स्थापित होगी। इसे लेकर हिंदू महासभा लगातार प्रयासरत है।

अखिल भारत हिंदू महासभा के ग्वालियर के जिलाध्यक्ष लोकेश शर्मा और जिला उपाध्यक्ष रामकिशन राठौर ने बताया कि देश का विभाजन करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का प्रतिकार करने वाले पंडित नाथूराम गोडसे एवं नारायण आप्टे को 15 नवंबर 1949 को अंबाला की जेल में फांसी दे दी गई थी। हिंदू महासभा पंडित नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को देश का विभाजन करने वालों का प्रतिकार करने और फांसी पर चढ़ाने के दिवस को नमन कर बलिदान दिवस के रूप में मनाती आ रही है।

उन्होंने कहा कि पंडित गोडसे की अस्थियां आज भी अखंड भारत की संरचना होने तक विसर्जन के लिए रखी हुई हैं। भारत का विभाजन कर उसे खंड-खंड कर दिया गया था। दोपहर 12 बजे हिंदू महासभा भवन में गोडसे व आप्टे के चित्रों पर माल्यार्पण कर आरती उतारकर उनका पूजन किया गया। इस दौरान वहां गोडसे जिंदाबाद व अमर रहे के नारे भी लगे।

ग्वालियर में स्थित हिंदू महासभा कार्यालय पर पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को पंडित नाथूराम गोडसे की बरसी को बलिदान दिवस के रूप में मनाया। दर्जनों कार्यकर्ताओं ने नाथूराम गोडसे और उसके साथी नारायण आप्टे जिंदाबाद के नारे लगाए। वहीं, हिंदू महासभा की प्रवक्ता अर्चना चौहान ने कहा कि नाथूराम गोडसे एक क्रांतिकारी थे। आज उनका बलिदान दिवस है।

इस मौके पर हिंदू महासभा ने सभी कार्यकर्ताओं को अखंड भारत का संकल्प दिलाया। उन्होंने यह भी मांग की है कि शहर के किसी चौराहे पर पंडित गोडसे की मूर्ति स्थापित हो। इसे लेकर उन्होंने नगर निगम कमिश्नर से बातचीत की है। साथियों का कहना है कि नाथूराम गोडसे की पहली मूर्ति प्रशासन के कब्जे में है, लेकिन उनकी दूसरी मूर्ति तैयार हो रही है।

ज्ञात हो कि ग्वालियर में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की पूजा-अर्चना होती है। इसे लेकर यह मामला पूरे देशभर में सुर्खियों में रहता है। इससे पहले हिंदू महासभा ने ग्वालियर में हिंदू महासभा कार्यालय में पंडित नाथूराम गोडसे की मूर्ति स्थापित की थी। बवाल मचने के बाद प्रशासन ने मूर्ति को जब्त कर लिया था। अब तक यह मूर्ति प्रशासन के कब्जे में है। इसके बाद भी पोस्टर और फ्लैक्स लगाकर हिंदू महासभा गोडसे की पूजा-अर्चना करती रही है। गोड़से की जयंती और बरसी को भव्य तरीके से मनाया जाता है।

मध्यप्रदेश में अखिल भारत हिंदू महासभा द्वारा महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की पूजा अर्चना करने पर फिर मामला गरमा गया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अरुण यादव ने सरकार से पंडित गोडसे की पूजा करने वालों पर कार्रवाई की मांग की है।

अरुण यादव ने ट्वीट कर लिखा- बापू हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिंदा हैं। मध्यप्रदेश के ग्वालियर में हिंदू महासभा ने एक बार फिर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के हत्यारे, देश के पहले आतंकवादी नाथूराम गोडसे की पूजा कर आरती उतारी। शिवराज जी, इन देशद्रोही लोगों को चिन्हित कर तुरंत एफआईआर दर्ज करके कठोर कार्रवाई करें।

Related Articles

Back to top button