मध्य प्रदेश

दिग्विजय सिंह बोले- न रामनाथ कोविंद दलितों का भला कर पाए, ना अब द्रोपती मुर्मू, कोई भी आदिवासी अत्याचार पर कुछ बोलने को तैयार नहीं …

इंदौर। संघ और भाजपा के खिलाफ हमेशा मुखर रहने वाले कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने प्रदेश में बढ़ रहे आदिवासियों और दलितों पर अत्याचार को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए। दिग्विजय सिंह ने आदिवासी अत्याचार जैसे तमाम मामलों में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एवं द्रौपदी मुर्मू पर मूकदर्शक बने रहने का आरोप लगाया है।

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के पूर्व इंदौर पहुंचे दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को बिरसा मुंडा जयंती एवं जनजाति गौरव दिवस पर मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इवेंट मैनेजमेंट में माहिर हैं इसी के चलते रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति बने वह 5 साल दलित राष्ट्रपति रहे, लेकिन उन्होंने देश के करोड़ों दलितों का कितना भला किया, यह हम जानना चाहते हैं। उन्होंने कहा अब द्रोपती मुर्मू से हम उम्मीद करते हैं कि आदिवासियों के खिलाफ जो अत्याचार एवं प्रताड़ना चल रही है, उस पर कम से कम कुछ बोलें तो, अगर कुछ नहीं बोल पा रही हो तो कम से कम कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल से ही मिल सकती हैं। इसके लिए समय दे दें।

दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि पन्ना में भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा के एक करीबी ने आदिवासी की जमीन पर कब्जा कर रखा है। इस जमीन को 90 लाख रुपए में खरीदी करना बताया, लेकिन जब भी वह उस आदिवासी के घर पहुंचते हैं तो भाजपा वाले उस व्यक्ति को गायब कर देते हैं। टीकमगढ़ में भी आदिवासी के नाम पर जमीन पर कब्जा कर रखा है। यही स्थिति बुधनी में है, जहां सीएम शिवराज सिंह की सहजाति के लोगों ने क्षेत्र में फसल कटाई करने आए आदिवासी मजदूर महिलाओं के साथ बदसलूकी की। इस दौरान विरोध करने पर एक आदिवासी की इतनी मारपीट की गई कि वह मर गया। बाद में यह दर्शा दिया गया कि उसे सांप ने काटा है। इसके बाद इस घटना पर बैतूल में आंदोलन हुआ तो जबरदस्ती उसका अंतिम संस्कार करवा दिया गया। हाल ही में 2 आदिवासियों की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई। जेलों में आदिवासियों को निर्दोष होते हुए भी सजा भुगतनी पड़ रही है। ऐसे कम से कम 50 से ज्यादा उदाहरण हैं, जिन्हें बताने के लिए मैं राष्ट्रपति से समय मांगने जा रहा हूं।

इस अवसर पर दिग्विजय सिंह ने आरएसएस के साथ केजरीवाल को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि केजरीवाल कांग्रेस मुक्त भारत के लिए भाजपा की बी टीम का हिस्सा है। एआईएमआईएम के ओवैसी और केजरीवाल दोनों इसी काम में लगे हैं। उन्होंने कहा कि आरएसएस पंजीकृत संस्था है, लेकिन फिर भी वह अपने ट्विटर हैंडल पर कोरोना के दौरान 7 करोड़ रुपए खर्च करना दर्शाती है। जब संस्था का कोई अकाउंट ही नहीं है तो जो देश भर से गुरु दक्षिणा ली जाती है, वह संघ के कौन से खाते में जमा होती है, यह भी सार्वजनिक करना चाहिए। उन्होंने कहा इस मामले में मैंने वित्त मंत्री से मनी लांड्रिंग के संबंध में शिकायत की है। इसे लेकर मैंने वित्त मंत्री को हाल ही में पत्र भी लिखा है।

Related Articles

Back to top button