मध्य प्रदेश

सीधी में पीडब्ल्यूडी का रिश्वतखोर कार्यपालन यंत्री धराया, 20 लाख के भुगतान के एवज में मांगे 2 लाख, 50 हजार लेते पकड़ाया….

भोपाल। शिवराज में ईओडब्ल्यू द्वारा लगातार की जा रही कार्रवाइयों के बाद अब रीवा की लोकायुक्त पुलिस ने सीधी में दबिश देकर लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री डीके सिंह को 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। वह नगर पालिका पार्षद हल्के से यह घूस ले रहा था। इससे पहले वह पार्षद से 10 हजार रुपए ले चुका था। लेकिन, दूसरी किस्त के 50 हजार रुपए लेते हुए उसे लोकायुक्त टीम ने गिरफ्तार कर लिया।

लोकायुक्त एसपी के अनुसार फरियादी हल्के सोनी के 2 लाख के लंबित बिल के भुगतान के बदले कार्यपालन यंत्री डीके सिंह द्वारा 20% की दर से 2 लाख रुपए रिश्वत की मांग की जा रही थी, जिसकी उन्होंने लोकायुक्त रीवा में शिकायत की थी। ईई ने 20 लाख रुपए के भुगतान के एवज में दो लाख रुपए मांगे थे। 50 हजार रुपए में सौदा तय हुआ था। फरियादी द्वारा 10 हजार रुपए पूर्व में दिए जा चुके हैं। गिरफ्तारी के बाद आरोपी कार्यपालन यंत्री को उच्च विश्राम गृह लाकर कागजी कार्रवाई की गई। आरोपी कार्यपालन यंत्री के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कार्रवाई कि जाएगी।

अभी कुछ दिन पहले ही राजधानी भोपाल में लोकायुक्त पुलिस की टीम ने सिंचाई विभाग कोलार के कार्यपालन यंत्री कार्यालय में स्थापना शाखा प्रभारी (क्लर्क) को 40 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। लोकायुक्त पुलिस ने यह कार्रवाई एमपी नगर जोन-1 स्थित मिलन रेस्टोरेंट में की थी। आरोपी मृत हो चुकी विभाग की एक महिला कर्मचारी के बेटे से जीपीएफ समेत अन्य भुगतान के लिए रिश्वत की मांग की थी, जिसकी शिकायत मिलने के बाद लोकायुक्त पुलिस ने योजनाबद्ध तरीके से कार्रवाई को अंजाम दिया।

Related Articles

Back to top button