Breaking News

हे मानव …

 

आज नही तो कल , यह तेरा मद टूटेगा

हे मानव ! जोड़ रहा जो धन तू ,

तोड़ रहा है तन तू

छोड़ इसे जाएगा, निश्चय यह छूटेगा ,

कोई  आ टपकेगा

देख इसे लपकेगा

चाह या न चाह , इसे निर्दय हो लूटेगा

 

 

विद्या भी , यह बल भी

यह विवेक कौशल भी

कुछ न रहेगा , शरीर का यह घट फूटेगा

आज नही तो कल , यह तेरा मद टूटेगा।

 

©आशा जोशी, लातूर, महाराष्ट्र

Check Also

प्रेम …

 (लघु कथा ) उसे अपने अमीर रिश्तेदारों से प्रेम था।मैं ग़रीब थी।उसने मेरा अपमान किया।घर …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange