मध्य प्रदेश

डॉ. आनंद राय सहित अन्य जयस नेताओं को भेजा जेल, सांसद-विधायक की गाड़ियों का घेराव कर हमले का है आरोप, अलग-अलग गाड़ियों से कोर्ट लेकर पहुंची पुलिस

रतलाम। मध्यप्रदेश के रतलाम में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच पुलिस ने गिरफ्तार किए गए जयस नेताओं को कोर्ट में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। पुलिस अलग-अलग वाहनों से जयस नेताओं को कोर्ट लेकर पहुंची। जयस नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में बड़ा प्रदर्शन होने की आशंका के चलते पुलिस ने शहर में चप्पे चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया था। बता दें कि रतलाम के धराड़ में सांसद गुमान सिंह डामोर और रतलाम ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना के काफिले को रोककर घेराव करने वाले जयस नेताओं और कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी बिलपांक थाना पुलिस ने की है। इस मामले में 25 नामजद सहित 50 से अधिक जयस कार्यकर्ताओं पर एफआईआर दर्ज की गई है।

कार्यकर्ताओं के विरोध की आशंका के चलते काफी सतर्क रही पुलिस

जयस नेता डॉ. अभय ओहरी, डॉ आनंद राय, विमलेश खराड़ी और अन्य की गिरफ्तारी के बाद इस बात की आशंका थी नेताओं की रिहाई के लिए जयस कार्यकर्ता बड़ा आंदोलन करते हुए गिरफ्तारी का विरोध कर सकते हैं। इसी कारण पुलिस ने बुधवार को चौकस पुलिस व्यवस्था कर रखी थी। शहर के चौक चौराहे पर पुलिस बल तैनात किया गया था साथ ही कोर्ट में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात थी। इसी बीच दोपहर करीब 3.30 बजे पुलिस अलग अलग गाड़ियों से जयस नेता डॉ. अभय ओहरी, डॉ आनंद राय, विमलेश खराड़ी और अन्य को कोर्ट लेकर पहुंची और कोर्ट में पेश किया।

मंगलवार को किया था सांसद-विधायक की गाड़ी का घेराव और हंगामा

बता दें कि मंगलवार को औद्योगिक क्षेत्र के लिए निवेश का विरोध करते हुए जयस से जुड़े दो हजार से अधिक कार्यकर्ताओं ने महू-नीमच हाईवे पर रतलाम से करीब 15 किमी दूर गांव धराड़ में सांसद गुमान सिंह डामोर, रतलाम ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना के काफिले को रोककर घेराव कर दिया था। इस दौरान जयस कार्यकर्ताओं की भीड़ में से ही किसी ने पत्थर उठाकर सांसद विधायक की गाड़ियों पर भी फेंके थे जिसमें गाड़ियों के कांच फूट गए थे। इतना ही नहीं इस हमले में कलेक्टर के दो सुरक्षा कर्मचारी भी घायल हुए थे। काफी मशक्कत के बाद तब पुलिस ने जयस कार्यकर्ताओं को तितर बितर किया था और फिर जयस के 25 नामजद सहित 50 कार्यकर्ताओं पर मामला दर्ज किया था। इस मामले में पुलिस ने जयस नेता और आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ. आनंद राय, डॉक्टर अभय ओहरी, विलेश खराड़ी, गोपाल वाघेला, अनिल निनामा जयस ग्रामीण अध्यक्ष को गिरफ्तार किया था।

Related Articles

Back to top button