मध्य प्रदेश

कलेक्टर ने जारी किए आदेश, विदिशा के बाढ़ पीड़ितों को मुफ्त में मिलेगा 50-50 किलो राशन …

भोपाल. मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में बाढ़ का पानी सैकड़ों लोगों का सब कुछ बहा ले गया। सरकार की ओर से प्रत्येक परिवार को 50-50 किलो अनाज दिया जाएगा. इस संबंध में विदिशा कलेक्टर ने आदेश जारी कर दिए हैं। कलेक्टर के इस आदेश से सैंकड़ों परिवारों को राहत मिली है, क्योंकि दाने-दाने को मोहताज इन लोगों को राशन मिल जाएगा, तो वह कम से कम कुछ दिन तो गुजारा कर सकेंगे।

कलेक्टर ने नटेरन विकासखंड के बाढ़ प्रभावित ग्रामों का सघन दौरा कर बाढ़ पीड़ितों से चर्चा की और उनकी परेशानियों को समझा। इस दौरान कलेक्टर और एसपी ने एक दिन में 18 ग्रामों का दौरा किया। भ्रमण के दौरान विधायक राजश्री सिंह, पूर्व विधायक रुद्र प्रताप सिंह और एसडीएम विजय राय सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। कलेक्टर ने इस दौरान सतपाड़ा सराय, सहजाखेड़ी, नथनपुर, खेजड़ा, बेरखेड़ी घाट, चक्क विलास, जोहद, नरखेड़ा, सिलवाया, खजूरी, गुर्जरखेड़ी, पिपरौदा, रामपुर बंधिया, कर्राखेड़ी, हिनोतिया, दुपारिया एवं शेरपुर का दौरा किया।

कलेक्टर ने डेढ़ दर्जन से अधिक ग्रामों में पहुंचकर अतिवृष्टि व बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा ही नहीं लिया, बल्कि अनेक हितग्राहियों को मौके पर लाभान्वित कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से चर्चा के दौरान बताया कि प्रत्येक परिवार को 50-50 किलो अनाज नि:शुल्क प्रदाय किया जाएगा। ऐसे बाढ़ पीड़ित लोग जिनके आवास टूट गए हैं और अभी उनके पास रहने के लिए कोई साधन नहीं है उन सबको वैकल्पिक व्यवस्था होने तक राहत शिविरों में रखा जाएगा। राहत शिविरों में खान-पान समेत अन्य तमाम बुनियादी आवश्यकताओं को पूर्ति सुनिश्चित कराई जाएगी।

कलेक्टर भार्गव ने बताया कि प्रत्येक बाढ़ पीड़ित के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए भी जिले में विशेष पहल की जा रही है, इसके तहत चिकित्सीय दल गांव में पहुंचकर बाढ़ पीड़ितों का स्वास्थ्य परीक्षण कर रहे हैं, गंभीर बीमारी से ग्रस्त पाए जाने वाले बाढ़ पीड़ितों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराए जाने की भी व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से की जा रही है। कलेक्टर ने बाढ़ पीड़ितों को आश्वस्त कराया कि सर्वे दल घर-घर जाकर सर्वे कार्य करेगा, जो भी नुकसान हुआ है उसकी जानकारी सर्वे दल को अवश्य दें, ताकि सर्वे कार्य पूर्ण होते ही राहत राशि वितरण का कार्य क्रियान्वित किया जा सके।

Related Articles

Back to top button