Breaking News

शहनाईयों से गूंजती कार्तिक पूर्णिमा का स्वागत …

 

बंद आंखों से गीत ब्याह के सुन रही थी

आंख खुली तो सपना नहीं था भ्रम टूट गया

गीत बता रहा था मुझको पास आकर हौले-हौले

नैहर से बिटिया का नाता अब तो छूट गया

छलछला उठीं आंखें मेरी भी ना जाने क्यों

बिटिया को मेरी गोद से कोई जैसे लूट गया

पाल-पोसकर उसके आगे सपने खूब सजाए थे

बिटिया के संग संग प्यार हमारा भी अटूट गया!

 

©लता प्रासर, पटना, बिहार

Check Also

मास्क ….

मास्क का विचार नहीं, सुविचार था…… उनकी मांग नहीं, भूख थी… उनकी ख्वाहिश, हिंसा, क्रांति, …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange