मध्य प्रदेश

राजस्थान के 1.15 लाख के इनामी व खूंखार डकैत केशव गुर्जर का गिरोह दिखा, दो दर्जन से अधिक अपराध दर्ज हैं केशव पर …

मुरैना। मध्यप्रदेश में चंबल के बीहड़ के आसपास बसे गांवों में आतंक का पर्याय बने तथा इनामी डकैत गुड्डा गुर्जर के पकड़े जाने के बाद भी डकैत समस्या खत्म नहीं हुई है। गुड्डा के बाद अब राजस्थान के 1.15 लाख के इनामी केशव गुर्जर की चंबल में एंट्री से ग्रामीणों दहशत है। केशव पर राजस्थान के धौलपुर सहित आसपास के थानों में दो दर्जन से अधिक अपराध दर्ज हैं।

ग्रामीणों के अनुसार देवगढ़ थाना क्षेत्र के बिंडवा, छत्तरपुरा, देवगढ़ सहित आधा दर्जन गांवों के नीचे चंबल के बीहड़ में दो दिन से हथियारबंद चार लोगों को देखा गया है। इससे ग्रामीण काफी भयभीत हैं। पहले ग्रामीण देर रात तक बीहड़ में अपने खेतों पर काम करते रहते थे, लेकिन अब स्थिति यह हो गई कि शाम ढलते ही वे बीहड़ से निकलकर अपने घर आ जाते हैं। ग्रामीणों ने क्षेत्र में डकैत केशव गुर्जर और उसकी गेंग के चार लोगों को देखा है। लोगों का कहना है कि एक बदमाश के पास 315 बोर, एक के पास बारह बोर और दो लोगों के पास फर्सा देखा गया है। बिंडवा, छत्तरपुरा, ल्हौरी का पुरा, पठानपुरा, पंचमपुरा, भवनपुरा, बहादुरपुरा, बरसेनी की ज्यादातर जमीन चंबल के बीहड़ में ही है। इसलिए लोग खेती किसानी के काम से देर रात तक खेतों पर रहते थे, लेकिन अब वह रात को खेतों पर नहीं जा पा रहे हैं।

बिंडवा छत्तरपुरा चंबल के बीहड़ में राजस्थान के इनामी बदमाशों की अक्सर आमद होती रहती है। पूर्व में यहां एसएएफ गश्त करती थी तो बदमाश यहां से पलायन कर गए थे, लेकिन अब एसएएफ है नहीं और पुलिस गश्त करने बीहड़ में पहुंचती नहीं है। इसलिए फिर से इनामी फरारी बदमाशों ने यहां डेरा डाल लिया है। खबर है कि इनके द्वारा ही डकैत केशव गुर्जर को आश्रय दिया जा रहा है।

कुछ दिन पूर्व राजस्थान में धौलपुर पुलिस से इनामी और खूंखार डकैत केशव गुर्जर की मुठभेड़ हुई थी। वह पुलिस के दबाव के चलते राजस्थान से भागकर मप्र की सीमा में चंबल के बीहड़ में आकर छिप गया है। ज्यादातर जब राजस्थान से दबाव पड़ता है तो चिन्नोंनी थाना क्षेत्र के गूलापुरा व करजोनी गांव में अपने रिश्तेदारों के यहां रहता है, लेकिन इन दिनों बिंडवा के नीचे चंबल के बीहड़ में उसका मूवमेंट बताया जा रहा है।

एडीशनल एसपी राय सिंह नरवरिया से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें अभी तक ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है। थाना प्रभारी देवगढ़ ने भी बदमाशों के मूवमेंट का कोई इनपुट नहीं दिया है। हम थाना प्रभारी से बात करते हैं।

Related Articles

Back to top button