मध्य प्रदेश

सीएम शिवराज बोले- यह कृषि मेला नहीं, किसानों की आय दोगुनी करने का महायज्ञ है ….

मुरैना में तीन दिवसीय कृषि मेले का शुभारंभ। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुभारंभ करते हुए तीन दिवसीय इस मेले में पहुंचे 35 हजार किसानों को संबोधित करते हुए मेले को आय दोगुनी करने का महायज्ञ बताया। कई निर्माण कार्यों का लोकार्पण तथा भूमिपूजन भी किया। कन्या पूजन कर उन्हें पौधों का महत्व समझाने तुलसी के पौधे उपहार में दिए।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को मुरैना पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आंबेडकर स्टेडियम में आयोजित कृषि मेले का शुभारंभ किया। उन्होंने उपस्थित किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘मेरे किसान भाइयो, प्राकृतिक खेती के इस सत्र की समाप्ति पर आपको विशेषज्ञों की सलाह और मार्गदर्शन मिलेगा। इसलिए यह केवल कृषि मेला नहीं है, यह किसानों की आय दोगुनी करने का महायज्ञ है।’ इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कई निर्माण कार्यों का लोकार्पण तथा भूमिपूजन भी किया। इसके बाद कन्याओं को तिलक कर, उन्हें पुष्प अर्पित कर उनका पूजन किया। इस दौरान चंबल-ग्वालियर के 35 हजार से ज्यादा किसानों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘मध्यप्रदेश में पहले 7.5 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती थी। जो अब 45 लाख हेक्टेयर में हो रही है। वहीं अब इसे शीघ्र ही बढ़ाकर हम 65 लाख हेक्टेयर करने के लिए कार्य कर रहे हैं।’ उन्होंने आगे कहा कि ‘खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की जो पहल है उसके अंतर्गत मशीनों, टेक्नोलॉजी तथा आधुनिक पद्धतियों का उपयोग कर किसानों की आय कैसे दोगुनी की जाए, यह सम्मेलन इसी का महायज्ञ है। सिंचाई की व्यवस्था सुचारू करने का हम निरंतर प्रयास कर रहे हैं, ताकि उत्पादन बढ़े और किसानों की आय बढ़ सके। साथ ही उत्पादन लागत को कम करने के लिए भाजपा की हमारी सरकार शून्य प्रतिशत पर किसानों को ऋण देने का कार्य कर रही है। मैने भी तय किया है कि मैं 5 एकड़ भूमि में प्राकृतिक खेती जरूर करूंगा।’

उन्होंने कहा कि मैं आप सब किसान भाइयों से अपील करना चाहता हूं कि आप भी कुछ हिस्से में प्राकृतिक खेती जरूर करें। उन्होंने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर जी का मध्यप्रदेश के किसानों की ओर से हम अभिनंदन करते हैं। इस वर्ष गेहूं को 2, 125 रुपए प्रति क्विंटल के समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा।

इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर सिंह तोमर ने बताया कि कृषि मेले में भिण्ड, मुरैना, ग्वालियर एवं श्योपुर जिले के 35 हजार किसान शामिल हो रहे हैं। केन्द्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि यह आयोजन खेती पर खर्च कम करने और किसानों की आय बढ़ाने और उन्नत तकनीकों की जानकारी देने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा, कि खेती के साथ-साथ किसान पशुपालन को अपनाए तो खेती के अलावा पशुपालन से आय अर्जित होगी वह किसानों के लिए लाभकारी सिद्ध होगी।

इस कृषि मेले में कृषि, पशुपालन विभाग आदि में प्रशिक्षण दिया जाएगा। तीन दिन तक विशेषज्ञ किसानों को फसलों में इस्तेमाल की जाने वाली नई तकनीकों का प्रशिक्षण देंगे। इस दौरान किसानों को सिखाया जाएगा कि वह नई तकनीक का इस्तेमाल कर न केवल उत्पादन बल्कि आय को दोगुना कर सकते हैं। खेती किसानी और पशुपालन के क्षेत्र में किसानों को कम लागत में आय दोगुनी करने के गुर सिखाए जाएंगे।

कृषि मेले में ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ फसल बीमा और कल्याण योजना के तहत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पॉलिसी का वितरण किया। योजना के पात्र 10 किसानों को यह पॉलिसी मुख्यमंत्री ने अपने हाथों से दी।

Related Articles

Back to top button