मध्य प्रदेश

टाटा और रिलायंस मध्यप्रदेश आएंगे: फार्मा सेक्टर में 3500 करोड़ का निवेश होगा, मप्र सरकार 600-600 एकड़ के 4 फार्मा पार्क बनाएगी ….

भोपाल। आगामी जनवरी माह में इंदौर में आयोजित होने वाली इन्वेस्टर्स समिट का निमंत्रण देने मुंबई पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की है कि मप्र में 600-600 एकड़ के चार फार्मा पार्क तैयार किए जाएंगे, जिसमें 30-30 कंपनियां अपना कारोबार कर सकेंगी। सीएम ने बताया है कि ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट से पहले ही मप्र में फार्मा सेक्टर में निवेश के लिए इंडस्ट्री तैयार हो गई हैं। मुंबई में एक दिन की चर्चा में ही फार्मा कंपनियों ने 3500 करोड़ रुपए के निवेश का भरोसा दिला दिया है। इसके साथ ही टाटा और रिलायंस जैसे समूह भी मप्र आने को राजी हो गए हैं।

गुरुवार को मुंबई में निवेशकों को आमंत्रित करने पहुंचे सीएम ने बताया कि जनवरी में इंदौर में हो रही ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के लिए निवेशकों को न्यौता दिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की रिलायंस इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर अनंत अंबानी से भी मुलाकात प्रस्तावित थी, लेकिन उनके विदेश में होने के कारण उनसे समूह के धनराज नाथवानी ने मुलाकात की। इस दौरान मप्र में 5-जी सेवा पर बात हुई। चर्चा के बाद सीएम ने बताया कि उज्जैन के महाकाल लोक से इसी माह 5-जी सेवा शुरू हो जाएगी। इंदौर-भोपाल के अलावा बाकी धर्मस्थलों व आध्यात्मिक महत्व की जगहों पर भी यह सेवा जल्द मिलेगी।

खजुराहो और भेड़ाघाट में भी 5-जी सर्विस के फ्री वाय-फाय जोन स्थापित किए जाएंगे। मप्र में रिलायंस समूह कई सेक्टर में काम कर रहा है। कंपनी के व्यापार का काफी विस्तार भी हुआ है। मप्र में 1 लाख 22 हजार एकड़ का लैंड बैंक है। सरप्लस बिजली है। तीस दिन में अपना व्यवसाय शुरू करने की उदार नीति, कुशल मानव संसाधन, औद्योगिक शांति और अच्छी कानून-व्यवस्था उपलब्ध है। मप्र में सिंगल विंडो सिस्टम है। यहां 11 से 12 क्लाईमेटिक जोन हैं। कोई भी बिजनेस किया जा सकता है।

देश की अर्थव्यवस्था (जीडीपी) में मध्य प्रदेश का योगदान 2026 तक 550 बिलियन डालर तक होगा, क्योंकि तब तक देश के पांच ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था बनने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि राज्य का सकल घरेलू उत्पाद (एसजीडीपी) इस वर्ष 19.67 प्रतिशत की दर से भी बढ़ रहा है और तेज गति से निवेश को आकर्षित कर रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत को पांच ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का संकल्प लिया है।

यह तभी हासिल होगा, जब राज्य अपना हिस्सा बढ़ाएंगे। मध्य प्रदेश 2026 तक देश की अर्थव्यवस्था में 550 बिलियन डालर का योगदान देगा। उन्होंने कहा कि हमने एक रोडमैप बनाया है, निवेशकों को आकर्षित करना इसका हिस्सा है। उद्योग मंडल सीआईआई द्वारा आयोजित मध्य प्रदेश में निवेश के अवसर कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने निवेशकों से मध्य प्रदेश में निवेश करने का भी आग्रह किया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने निवेशकों से वन-टू-वन भी किया। इनमें महेंद्र एंड महेंद्रा, हिंदुस्तान यूनिलीवर, बीपीसीएल, केमेरिक्स बायोटेक, सिमबायोटेक फार्मा लेब, गुफिक बायोसाइंसेस और पीरामल ग्रुप शामिल हैं। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने ताज प्रेसीडेंट में “इंवेस्टमेंट अपॉर्च्युनिटीज इन मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस दौरान औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव मौजूद रहे। सीएम ने इस मौके पर इंदौर की इंफोबींस आईटी कंपनी को घंटी बजाकर बीएसई में लिस्ट कराया।

साउथ कोरिया, सिंगापुर, मलेशिया, थाइलैंड, नीदरलैंड एवं बांग्लादेश के कॉन्सुलेट जरनल पहुंचे। जापान, कनाडा, ताइवान के प्रतिनिधि शामिल हुए। महिंद्रा एंड महिंद्रा, हिंदुस्तान यूनिलीवर, रिलायंस इंडस्ट्रीज, यूएस फार्मा, केमेरिक्स लाइफ साइंसेज, एनक्यूब ऐथिकल फार्मा, ग्यूफिक बायोसाइंसेज और पीरामल ग्रुप के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

निवेशकों से चर्चा के दौरान सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि अगर आपके बीच आया हूं तो कोई कर्मकांड करने नहीं आया कि मुख्यमंत्री हूं तो एक बार इंवेस्टर समिट तो करना ही पड़ता है। ठोस रणनीति बनाकर आया हूं। कोविड काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि आपदा को अवसर में बदलो। हमने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप बना लिया है। इंफ्रास्ट्रक्चर, हेल्थ, एजुकेशन, गुड गवर्नेंस, अर्थव्यवस्था और रोजगार इसके सेक्टर हैं।

मुख्यमंत्री ने निवेशकों से मुलाकात के बाद कहा कि मध्य प्रदेश में निवेश के लिए सभी उत्साह दिखाया। वे यहां की संभावनाओं का दोहन करने के लिए तैयार हैं और इंदौर समिट में आ रहे हैं। उन्होंने निवेश को लेकर जो प्रतिबद्धता जताई है, उसको देखते हुए रोजगार के अवसरों में व्यापक बढ़ोतरी होगी। नौजवानों को रोजगार मिलेगा। देर शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टाटा समूह के मालिक रतन टाटा से भी मुलाकात की। उन्होंने टाटा को इंदौर में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में आने का न्योता दिया। सीएम ने मप्र में निवेश की अच्छी व अनुकूल संभावनाओं के बारे में उन्हें बताया। इस मुलाकात में रतन टाटा ने मध्यप्रदेश की खुलकर तारीफ भी की।

Related Articles

Back to top button