मध्य प्रदेश

गौरीशंकर बिसेन ने कमलनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया

पूर्व मंत्री ने कहा- बालाघाट से 13 चुनाव लड़ चुका, पार्टी कहेगी तो छिंदवाड़ा से भी लड़ लूंगा

भोपाल। भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने पीसीसी अध्यक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा का राष्ट्रीय और प्रदेश नेतृत्व मुझे जहां से भी कहेगा, मैं वहां से चुनाव लडूंगा। सिर्फ बालाघाट से विधानसभा का चुनाव नहीं लडूंगा, क्योंकि 13 बार मुझे वहां से विधानसभा, लोकसभा के चुनाव में जनता ने वोट दिया है। एक बार मेरी पत्नी को टिकट दिया। अब 14 बार हो गया, बहुत हो गया, नई पीढ़ी को मौका मिलना चाहिए।

यह घोषणा श्री बिसेन ने भोपाल में अपने आवास पर पत्रकारों से चर्चा में किया। कमलनाथ के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बिसेन ने कहा- मैं कमलनाथ का बहुत सम्मान करता हूं, मुझे इस बात की खुशी है कि आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर 13 तारीख को जब मैंने उन्हें आमंत्रित किया था तो वह मेरे घर आए और डेढ़ घंटे मेरे साथ रहे। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से कहा कि आपने एक काम अच्छा किया। भाऊ (बिसेन) को 10 साल छिंदवाड़ा का प्रभारी मंत्री बनाए रखा था। उन्होंने कहा कि मैं उनकी बहुत इज्जत और सम्मान करता हूं। 10 साल में मेरे और उनके बीच कभी विवाद नहीं हुआ, यदि मुझसे कमलनाथ जी पूछ लेते तो शायद वे ऐसा बयान नहीं देते। जो घटना हुई है, उसमें ऐसा कोई विषय ही नहीं है।

आरटीओ से की गई अभद्रता पर बिसेन ने मांगी माफी

दो दिन पहले गौरीशंकर बिसेन का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसमें, वे बालाघाट आरटीओ को अपशब्द कहते हुए देखे गए थे। बिसेन के वीडियो पर कमलनाथ ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि उनका स्वभाव रहा है और ये उनकी सोच काे दर्शाता है। आरटीओ के साथ हुए व्यवहार पर बवाल मचने के बाद गौरीशंकर बिसेन ने माफी मांगते हुए कहा- मैंने बालाघाट में भी कहा था, आज फिर कहता हूं, हिंदुस्तान में जिस जगह बुलवाओगे मैं बोलूंगा। मैंने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया मेरे स्वभाव में ऐसे शब्द कभी आते ही नहीं। उन परिस्थितियों में जो कठोर शब्द मुझसे निकले वे अच्छे शब्द नहीं थे । उसके लिए मैंने सार्वजनिक रूप से माफी मांगी है अभी भी मैं माफी मांग रहा हूं। मैंने एआरटीओ से माफी मांगी है, उनकी जूनियर से भी माफी मांगी। मुख्यमंत्री जी के सामने मैंने अपनी बात रखी। मीडिया के माध्यम से पूरे देश के लोगों से माफी मांगता हूं।

अचानक हुई घटना, इसे अन्य विषय से जोड़कर नहीं देखें

बिसेन ने कहा कि यह तो अचानक हुई घटना है, इसे किसी अन्य विषय से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। घटना क्यों हुई, इस बारे में स्पष्ट करते हुए उन्होंने कहा कि 10 तारीख को शाम को 5:30 बजे स्पॉट पर उस महिला की मृत्यु हुई। थाने से 3 किलोमीटर दूर वह गांव है। किशोर पालीवाल और उनकी टीम के साथ में यह तय हुआ था कि 9:30 बजे एआरटीओ साहब आएंगे और जिसकी बस से यह घटना हुई है, उनको समझाएंगे। आगे कभी इस प्रकार की घटना ना होने पाए। लेकिन, आरटीओ साहब कलेक्टर के कहने के बावजूद नहीं आए, मैंने भी बात की थी। उनको शायद डर रहा होगा कि मैं आ रहा हूं। मृतका के देवर की पत्नी लंबे समय तक सरपंच रहीं। जनसंघ के जमाने से उनके पिता हमारे कार्यकर्ता रहे हैं। कांग्रेस क्या कह रही है इस पर मुझे जवाब देने की जरूरत नहीं है। अधिकारियों को गाली देने की जरूरत नहीं है। शिवराज सिंह चौहान का प्रशासन चुस्त और दुरुस्त है।

Related Articles

Back to top button