मध्य प्रदेश

पूर्व सीएम कमलनाथ की चिट्ठी पर गरमाई राजनीति : सीएम शिवराज ने कमलनाथ के लिए गाया गाना- ‘कागज कलम दवात ला लिख दूं मैं दिल तेरे…’

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव को अभी एक साल का समय है, लेकिन इससे पहले ही सियासी पारा फिर चढ़ गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ आमने-सामने हैं। कमलनाथ द्वारा प्रदेश के एसपी और निर्वाचन आयोग को लिखी गई चिट्ठी के बाद शिवराज सिंह ने आरोपों का जवाब दिया है। सीएम ने अपने बयान में कहा है कि कमलनाथ जी की ट्विटर की चिड़िया सुबह-सुबह उड़ जाती है। समझ नहीं आ रहा, उन्हें क्या हो गया है? कलेक्टर-एसपी को खत लिख रहे हैं।

सीएम ने कमलनाथ पर तंज कसते हुए गाना भी गुनगुनाया- ‘कागज कलम दवात ला लिख दूं दिल तेरे नाम करूं….’ सीएम ने कहा- आखिर कमलनाथ किसको धमका रहे हैं। लोकतंत्र में सबका सम्मान है, लेकिन कोई कानून तोड़ेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। कोई खाद की बोरियां लुटवा दे तो कानून अपना काम करेगा। कमलनाथ का काम चिट्ठी लिखना है लिखते रहें।

सीएम ने ‘पेसा’ एक्ट को नाटक बताने वाले कांग्रेस नेताओं के बयान पर भी निशाना साधते हुए सवालिया लहजे में कहा कि कांग्रेस बताए उन्होंने आदिवासियों के लिए क्या किया? कांग्रेस की जब सरकार थी, तब सड़कें नहीं हुआ करती थीं। हम घर-घर पानी पहुंचा रहे हैं, सड़क बनवा रहे हैं। कांग्रेस ने आदिवासियों के साथ पाप किया है। कांग्रेस चाहती थी गरीब के बेटा-बेटी बिना पढ़े रह जाएं। आदिवासियों को जान-बूझकर विकास से दूर रखा। सिंचाई की व्यवस्था कांग्रेस ने नहीं, बीजेपी ने की। बस सवेरे उठो और आरोप लगा दो, इससे कम नहीं चलेगा।

ज्ञात हो कि हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ ने कलेक्टर को एक चिट्ठी लिखी थी। उसके बाद उन्होंने एक चिट्ठी निर्वाचन आयोग को भी लिखी। इस चिट्ठी में उन्होंने अधिकारियों पर सरकार के दबाव में काम करने के आरोप लगाए हैं। कमलनाथ ने यह भी कहा है कि जानबूझकर कुछ बूथों को संवेदनशील बनाने का काम किया जा रहा है। यह वह बूथ है, जहां पर बीजेपी की स्थिति खराब है। कमलनाथ के इस तरह के आरोपों पर ही शिवराज सिंह ने पलटवार करते हुए जवाब दिया है।

Related Articles

Back to top button