लखनऊ/उत्तरप्रदेश

10 साल के बच्चे का अपहरण कर कुकर्म, फिरौती नहीं मिलने पर गंगा में डुबोकर मार डाला …

कानपुर। अपराध और अपराधियों का गढ़ उत्तर प्रदेश में आम लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। कानपुर में 10 साल के बच्‍चे की अपहरण के बाद गंगा नदी में डुबोकर हत्‍या कर दिए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। आरोप है कि हत्‍या से पहले बच्‍चे के साथ कुकर्म भी किया गया। बदमाशों ने बच्‍चे के परिवार से 6 लाख की फिरौती मांगी थी। पुलिस इस मामले में मोहल्‍ले के 4 आरोपियों बल्लू पांडेय, अमित सिंह, समीर पांडेय और अमीन खान को गिरफ्तार कर लिया है।

बच्‍चे के पिता पल्‍लेदार हैं। दो दिन पहले कानपुर के कैंट क्षेत्र के मैकुपुरवा इलाके से बच्‍चे का अपहरण किया गया। अपहरणकर्ता ने फोन कर बच्‍चे के पिता से छह लाख रुपए की फिरौती मांगी थी। बताया जा रहा है कि फिरौती देने में असमर्थता जताने पर बदमाशों ने बच्‍चे के साथ कुकर्म किया। फिर उसे गंगा नदी में जिंदा फेंक दिया।

सोमवार शाम को बच्‍चा अचानक लापता हो गया था। परिवारीजनों ने उसे तलाश करने की काफी कोशिश की लेकिन कहीं भी उसका पता नहीं चला। इसके बाद रात में नौ बजे के करीब बच्‍चे के पिता के पास फिरौती के लिए कॉल आई। उनसे छह लाख रुपए की डिमांड की गई। परिवारवालों का आरोप है कि असमर्थता जताने पर बदमाशों ने बच्‍चे को गंगा नदी में फेंककर हत्‍या कर दी।

पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आठ घंटे में चार आरोपियों को ट्रेस कर गिरफ्तार कर लिया। कॉल डिटेल और सर्विलांस के आधार पर इन चारों के बारे में पुलिस को पता चला। बच्चे का शव बरामद नही हो सका है पुलिस उसकी तलाश कर रही है। बताया जा रहा है कि आरोपियों ने पूछताछ में घटना कबूल कर ली है। उनसे पूछताछ की जा रही है। बच्‍चे के गायब होने की जगह के आसपास से सीसीटीवी फुटेज भी जुटाई गई  है।  इसकी मदद से मंगलवार रात को पुलिस आरोपियों तक पहुंच गई। चारों आरोपियों को दबोच लिया। सभी ने वारदात कबूल ली है।

आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि अपहरण करने के एक घंटे बाद ही बच्चे की हत्या कर दी थी। उसके बाद फिरौती मांगी। पुलिस बुधवार को भी बच्चे का शव बरामद करने में जुटी रही।

पुलिस ने इलाकाई निवासी बल्लू पांडेय, अमित सिंह, समीर पांडेय और अमीन खान को गिरफ्तार किया है। बच्चे के परिजनों ने बताया कि आरोपियों ने मासूम के साथ पहले कुकर्म किया। उसके बाद हत्या कर दी।

Related Articles

Back to top button