मध्य प्रदेश

विकास का कारवां : सम्मान,विश्वास के 5 दिवसीय उत्सव का खुशनुमा समापन

निवेशकों ने जताया भरपूर भरोसा 15 लाख 42 हजार 514 करोड़ निवेश के प्रस्ताव आए, प्रदेश में 29 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

इंदौर। मध्यप्रदेश की व्यावसायिक राजधानी और देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में पांच दिनों तक चला उत्सव अच्छे परिणामों के साथ खुशनुमा माहौल में समाप्त हुआ। पहले तीन दिन प्रवासी सम्मेलन और फिर दो दिन ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट। इन्वेस्टर्स समिट में कुल 15 लाख 42 हजार 514 करोड़ के निवेश के प्रस्ताव का अनुबंध हुआ। इस निवेश से प्रदेश में कुल 29 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। समिट में सबसे ज्यादा प्रस्ताव मालवा निमाड़ को मिले।
मध्यप्रदेश में रेनोवेबल एनर्जी के सेक्टर में सबसे ज्यादा निवेशकों ने रुचि दिखाई। नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में लगभग 6 लाख 9 हजार 478 करोड़ के निवेश आया है। इससे 11 लाख 84 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर में 2 लाख 80 हज़ार 753 करोड़ रुपये का निवेश आया है, जिससे 4 लाख 50 हजार 127 को रोजगार को रोजगार मिलेगा। फूड प्रोसेसिंग, एग्री प्रोसेसिंग 1 लाख 6 हजार 149 करोड़ का निवेश आया है, 2 लाख 20 हजार 160 को रोजगार प्राप्त होगा। आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र में रु. 78 हज़ार 778 करोड़ का निवेश आया है जिससे 2,22,371 लोगों को रोजगार मिलेगा। रसायन एवं पेट्रोलियम के क्षेत्र में रु. 76769 करोड़ का निवेश आया है, जिससे 71,704 लोगों को रोजगार मिलेगा। सर्विस सेक्टर में रु. 71,351 करोड़ का निवेश आया है जिससे 1,66,700 लोगों को रोजगार मिलेगा।
इन्वेस्टर्स ने सबसे ज्यादा रुचि इलेक्ट्रिक वाहन में
ऑटोमोबाइल इंजिनियरिंग, इलेक्ट्रिक व्हिकल के क्षेत्र में रु. 42254 करोड़ का निवेश आया है, जिससे 69,962 लोगों को रोजगार मिलेगा। फार्मा एंड हेल्थकेयर लगभग रु. 17,991 करोड़ का निवेश प्राप्त हुआ है, जिससे 1,42,614 लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे। लॉजिस्टिक्स एंड वेयरहाउसिंग में रु. लगभग 17,916 करोड़ का निवेश आया है, जिससे 56 हजार 373 लोगों को रोजगार मिलेगा। टेक्सटाइल एंड रेडीमेट गारमेंट क्षेत्र में रु. 16,914 करोड़ का निवेश मिला है, जिससे 1 लाख 13 हजार 502 को रोजगार मिलेगा। अन्य क्षेत्रों में रु. 1 लाख 25 हजार 855 करोड़ का निवेश प्राप्त हुआ है। 1 लाख 24 हजार 168 से अधिक रोजगार प्राप्त होंगे।
मालवा-निमाड़ में निवेश के सर्वाधिक प्रस्ताव
मालवा, निमाड़ में 6 लाख 95 हजार 258 करोड़ रुपए का निवेश, रीवा और शहडोल में 2 लाख 88 हजार 179 करोड़ रुपए का निवेश। जबलपुर और सागर में 2 लाख 41 हजार 898 करोड़ रुपए का निवेश। भोपाल और नर्मदापुरम में 1 लाख 65 हजार 59 करोड़ रूपए का निवेश। ग्वालियर, चंबल में 1 लाख 52 हजार 147 करोड़ रुपए के निवेश के प्रस्ताव पास हुए हैं। पूरे प्रदेश में अलग अलग क्षेत्रों में यह निवेश के प्रस्ताव हमें प्राप्त हुए हैं।
उद्योग जगत को मिलेंगी ये सुविधाएं
ठ्ठ उद्योग शुरू करने के बाद तीन साल तक कोई अनुमति जरूरी नहीं
ठ्ठ प्लग एंड प्ले की सुविधा अनेक उद्योग सेक्टर्स में शुरू होगी
ठ्ठ निवेशकों की एक पाई भी व्यर्थ नहीं जाएगी
ठ्ठ 07 सूत्री रणनीति से प्रदेश को आगे बढ़ाएंगे
ठ्ठ स्थापना की कठिनाइयां दूर करने समाधान विंडो
ठ्ठ मुख्यमंत्री स्वयं करेंगे समाधान कार्यवाही की समीक्षा
औद्योगिक गतिविधियों के विस्तार के लिए 23 व्यापारिक संगठनों के साथ 36 अनुबंध
अनुबंध के माध्यम से 215 देशों के व्यापारिक समुदाय से मध्य प्रदेश राज्य का सीधा संपर्क होगा।
इंदौर। मध्य प्रदेश की व्यापारिक और औद्योगिक गतिविधियों के वैश्विक विस्तार के लिए ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के अंतिम दिन गुरुवार को मध्य प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास निगम ने विभिन्न देशों के 23 व्यापारिक संगठनों के साथ 36 अनुबंध किए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में अनुबंध संबंधी दस्तावेजों का आदान-प्रदान हुआ। ये संगठन 215 से अधिक देशों में गतिविधियां संचालित कर रहे हैं। अनुबंध के माध्यम से 215 देशों के व्यापारिक समुदाय से राज्य का सीधा संपर्क होगा। इससे प्रदेश के निवेशक और निर्यातकों को सीधा लाभ होगा।
अनुबंध इंडो कनाडा बिजनेस चैंबर, सिंगापुर इंडियन चैंबर आफ कामर्स एंड डंडस्ट्रीज, इंडिया आसियान ग्रेट काउंसिल और इंडिया अफ्रीका ट्रेड काउंसिल, इंडियन इकोनमिक ट्रेड आर्गनाइजेशन, इंडिया बांग्लादेश चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के साथ कृषि, तकनीक, खाद्य प्रसंस्करण, प्रशिक्षण सहित अन्य क्षेत्रों में गतिविधियां संचालित करने के लिए किया गया।
क्या-क्या हुआ
हॉंगकांग के एपिक ग्रुप के एग्जीक्यूटिव चेयरमैन रंजन मेहता ने भोपाल में 35 एकड़ भूमि पर 400 करोड़ के निवेश से वर्टिकल फैब्रिक और गारमेंट इकाई लगाने का प्रस्ताव दिया। इस प्रोजेक्ट में 10,000 युवाओं को रोजगार मिलेगा।
एपिक समूह भी मध्यप्रदेश में प्रशिक्षण केंद्र भी खोलेगा।
नॉर्वे के शोहसनी ने छिंदवाड़ा में सोलर और विंड एनर्जी में निवेश का प्रस्ताव दिया।
इजराइल के काउंसलर जनरल ने कृषि के क्षेत्र में रुचि दिखाई।
इजराइल की कई कंपनियां स्मार्ट सिटी, कौशल विकास, डेवलपमेंट और अधोसंरचना विकास के क्षेत्र में निवेश करेंगी।
जेएलएल समूह ने पांच हजार करोड़ के निवेश से सेंट्रल बिजनेस डिस्टिक इंडस्ट्रियल पार्क बनाने का प्रस्ताव दिया है।
व्यापार विस्तार के लिए हुए एक
वहीं, लैटिन अमेरिकन करेबियन फेडरेशन आफ इंडिया ने ट्रेड डाटा और ट्रेड लाइसेंसिंग, हांगकांग से संबंधित इंडिया कनेक्ट समूह ने तकनीकी आदान-प्रदान, अमेरिका-अफ्रीका और भारत में सक्रिय भट्ट फाउंडेशन ने चिकित्सा के क्षेत्र में तथा इंडियन नेशनल एसोसिएशन आफ लीगल प्रोफेशनल्स ने ट्रेड ला, यूनेस्को यूनिवाक सेंटर ने कौशल उन्नयन, इंजीनियरिंग एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल ने इंजीनियरिंग, थाईलैंड के फेडरेशन आफ इंडियन इंडस्ट्रीज चैप्टर ने स्टार्टअप, मलेशिया के पीपुल आफ इंडियन आरिजन ने खाद्य प्रसंस्करण, फेडरेशन आफ बांग्लादेश चैंबर आफ कामर्स इंडस्ट्रीज ने व्यापार विस्तार के लिए अनुंबध किया।
इन्होंने भी किया अनुबंध
इनके अलावा हार्ट फुलनेस एजुकेशन ट्रस्ट, मार्बल राक्स, इंफ्रो ट्रस्ट, ईको टारस, वर्ल्ड एनआरआइ एसोसिएशन, आर्गनाइजेशन आफ स्किल डेवलपमेंट, काउंसिल आफ ईयू चैंबर आफ कामर्स तथा तुर्कीये के मुसियाद समूह ने भी अनुबंध किया

फरवरी में शहर में फिर आएंगे विदेशी मेहमान…
जी-20 की मेजबानी को भी तैयार इंदौर
प्रवासी भारतीय समेलन और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के समापन के बाद अब भारत जी -20 की बैठकों और शिखर सम्मेलनों के लिए एजेंडा तय करेगा और वैश्विक आर्थिक चुनौतियों का समाधान करने के लिए सदस्य देशों के प्रयासों में समन्वय स्थापित करने के लिए काम करेगा। जी-20 की बैठकों में प्रदेश में पहली बैठक 13 व 14 फरवरी को इंदौर में होगी। भारत ने 1 दिसंबर, 2022 को इंडोनेशिया से वैश्विक आर्थिक और वित्तीय मुद्दों को संबोधित करने के लिए मिलकर काम करने वाली 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के समूह की अध्यक्षता संभाली है। अध्यक्षता के लिए भारत की थीम “एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य है। भारतभर के 50 से अधिक शहरों में वर्कस्ट्रीम के स्कोर पर 200 से अधिक कार्यक्रमों की मेजबानी करने के लिए तैयार हैं। विभिन्न शहरों में आयोजित किए जा रहे जी -20 कार्यक्रमों से प्रतिनिधियों और मेहमानों क भोजन की स्वादिष्टता, भाषा में विविधता और सांस्कृतिक विरासत के मामले में भारत की समृद्ध संस्कृति और परंपरा की झलक देखने में मदद मिलेगी। इसी कड़ी में मध्यप्रदेश के इंदौर को भी एक कार्यक्रम की मेजबानी करने का मौका मिला है। जी-20 कार्यक्रम के तहत एग्रीकल्चर वर्किंग ग्रुप की मीटिंग इंदौर में होगी। 13 से 15 फरवरी को होने वाला यह ग्लोबल इवेंट इंदौर के शेरेटन ग्रांड पैलेस में होगा।

Related Articles

Back to top button