मध्य प्रदेश

कई सेक्टरों से आए निवेश के प्रस्ताव, सीएम बोले- हम साथ नहीं छोड़ेंगे, निवेशकों की एक पाई भी डूबने नहीं दूंगा

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का समापन: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिया विदाई भाषण

इंदौर। सत्र के अंतिम दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विदाई भाषण दिया। चौहान ने अपने भाषण में भावुक पलों के साथ ही मध्यप्रदेश की उपलब्धियां भी बताई। साथ ही कहा कि जो लोग यहां निवेश करने आ रहे हैं, उन्हें हम कभी छोड़ेंगे नहीं। दो दिन की समिट में करीब डेढ़ लाख करोड़ के निवेश के प्रस्ताव आए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 3 वर्षों में भारत की इकॉनामी को 5 ट्रिलियन में मध्यप्रदेश के योगदान विषय पर संबोधित किया।
इस अवसर पर निवेशकों से मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी प्रस्तावों को जमीन पर उतारने में कोई कसर नहीं रहेगी। निवेशकों का एक पैसा भी व्यर्थ नहीं जाएगा। टीम मध्यप्रदेश आपके साथ खड़ी रहेगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ ही ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के अंतिम दिन केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, वीरेंद्र कुमार, नरेंद्र सिंह तोमर, फग्गन सिंह कुलस्ते भी मौजूद थे।
ऐसा लगा पूरी दुनिया इंदौर में उतर आई
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ये विदाई की वेला है। विदाई का मतलब परमानेंट विदाई नहीं है। जिसने इन्टेंट्स ऑफ इनवेस्ट दिया, उन्हें मैं छोड़ूंगा नहीं। हमने आपको प्रेम के बंधन में बांधा है। ऐसा लगा इंदौर में पुरी दुनिया उतर आई। इंदौर में सब एक हो गया। यहां का रंग ही ऐसा है। मैं तो दुबला पतला आदमी हूं, हाथ मिला मिलाकर ही हाथ दुखने लगा है। लेकिन ये अद्भूत प्यार रहा। यही भारत के संस्कार भी है। कोई किसी देश का हो, हम सब मिलकर एक है, पूरा विश्व एक परिवार है। ये हमारे पीएम नरेन्द्र मोदी भी कहते है। ये हमारी परंपरा भी है। भारत अद्भूत देश है, हमारे यहां मतभेद होते हैं, लेकिन हम लड़ते नहीं हैं। जिसे जो ठीक लगे, वो रास्ता अपनाता है।
समिट में 84 देशों के प्रतिनिधियों ने लिया हिस्सा
समिट में 84 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। 447 इंटरनेशनल बिजनेस प्रतिनिधि, 401 इंटरनेशनल बॉयर्स शामिल थे। 5 हजार से अधिक प्रतिनिधि आए। जी-20 के सभी देश आए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर अद्भुत शहर है। मैं भी कहता हूं कि इंदौर से मध्यप्रदेश में नया दौर प्रारंभ होने जा रहा है। निवेश की आइडियल डेस्टिनेशन है। हमने 18 साल में शून्य से शिखर तक का सफर तय किया है। बीमारू से हम अग्रणी राज्यों में शुमार है। संसाधन से संपन्न है। शांति के टापू है।
हम हाथ छोड़ते नहीं
मुख्यमंत्री ने ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के समापन मौके पर कहा कि हम जिसका हाथ पकड़ लेते हैं, उसे कभी छोड़ते नहीं है। मैं माफी चाहता हूं कि सभी से नहीं मिल पाया, लेकिन आप निराश न हों। हम कदम से कदम मिलाकर चल रहे हैं।
पूरा विश्व एक परिवार
चौहान ने कहा कि हम सब मिलकर एक परिवार है। पूरा विश्व ही एक परिवार है। हम अकेले नहीं जीएंगे, जीयो और जीने दो। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के अंतिम दिन मन बहुत भावुक है। आज विदाई की बेला है। कुछ दिनों से पूरी दुनिया इंदौर में सिमट गई थी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने कभी भारत के कल्याण की कामना नहीं की। पूरे विश्व की कल्याण की बात कही है। हमारे देश में बच्चों-बच्चों को भी यही सिखाया जाता है। भारत अद्भुत देश है।
लोकल से ग्लोबल हुआ इंदौर…
रियल एस्टेट, पर्यटन, फूड उद्योग में रचेगा नए कीर्तिमान
दुनियाभर से यहां आए लोग इंदौर की व्यवस्थाओं, स्वच्छता, मेहमाननवाजी की तारीफ करते नहीं थक रहे थे
इंदौर। स्वच्छता में छह बार अव्वल शहर इंदौर ने पांच दिन में प्रवासी भारतीय सम्मेलन और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट जैसे भव्य आयोजन कर एक बार फिर यह साबित कर दिया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित अंतरराष्ट्रीय अतिथियों ने यूं ही इंदौर की तारीफ नहीं की थी। इंदौर न सिर्फ सजग है, बल्कि यह नवाचार, मेहनतकश और दिलवाले लोगों का शहर भी है। दोनों महत्वपूर्ण आयोजनों में 80 देशों के तीन हजार से ज्यादा लोगों और देशभर के करीब 10 हजार लोगों का प्रबंधन कर इंदौर को लोकल से ग्लोबल बना दिया है।
दुनियाभर से यहां आए लोग इंदौर की व्यवस्थाओं, स्वच्छता, मेहमाननवाजी की तारीफ करते नहीं थक रहे थे। इन आयोजनों का लाभ आने वाले समय में इंदौर को मिलेगा। रियल एस्टेट, फूड और पर्यटन उद्योग नई ऊंचाई छुएंगे। समिट के समापन अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इंदौर में 10 हजार लोगों की क्षमता वाला कंवेशन सेंटर बनाने का जिम्मा आईडीए को सौंप दिया है। इस आयोजन से इंदौर की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जो ब्रांडिंग हुई है। उससे इंवेंट मैनेजमेंट के लिए अब सरकार व एजेंसियों को यह एक बेहतर संभावना वाले शहर के रुप में नजर आने लगा है।
फूड, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
समय से आगे चलकर भी अपनी विरासत को समेटने वाले इंदौर के स्वाद की तारीफ भी प्रधानमंत्री मोदी ने मंच से कर यहां के जायके को भी विश्व प्रसिद्ध बना दिया। इसके साथ ही इंदौर फूड के क्षेत्र में भी तेजी से आगे बढ़ेगा। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट से ही इसका असर नजर आने लगा है। फूड के क्षेत्र में बड़े समूहों ने रुचि दिखाई है। महाकाल महालोक के लोकापर्ण के साथ ही पर्यटन के क्षेत्र में इंदौर ऐसे शहर के रुप में तेजी से उभरेगा जहां विश्वस्तरीय होटल चेन के साथही बेहतर कनेक्टिविटि है। महाकाल और ओंकारेश्वर के साथ ही मांडू आने वाले पर्यटक इंदौर को आवागमन और ठहरने का केंद्र बनाएंगे। इससे पर्यटन और होटल इंडस्ट्री में आने वाले समय में बूम आएगा।
सुपर कारिडोर पर बनेगा 10 हजार की क्षमता का कन्वेंशन सेंटर
मुख्यमंत्री ने आइडीए को दिया लक्ष्य, प्रवासी भारतीय सम्मेलन के बाद बड़ी सोच…
शहर में अब एक साथ 10 हजार लोगों के बैठने की क्षमता वाला कन्वेंशन सेंटर बनाया जाएगा। यह कन्वेंशन सेंटर सुपर कारिडोर पर बनाने की योजना है। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (जीआइएस) के समापन सत्र में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने आइडीए को यह लक्ष्य दिया है। शहर में अब प्रवासी भारतीय सम्मेलन जैसे बड़े आयोजन हो रहे हैं, वहीं राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इंदौर की पहचान का दायरा भी बढ़ने लगा है। ऐसे में इंदौर में बड़े कन्वेंशन सेंटर की आवश्यकता महसूस की जा रही है। स्वयं मुख्यमंत्री ने गुरुवार को ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में कहा कि अब यह जगह छोटी पड़ने लगी है। हमें बड़े कन्वेंशन सेंटर की जरूरत है। ऐसे में माना जा रहा है कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन के बाद इंदौर का दृष्टिकोण और व्यापक हुआ है। राज्य सरकार मान चुकी है कि बड़े आयोजनों के लिए इंदौर से बेहतर जगह नहीं है। इसलिए यहीं पर और सुविधाओं का विस्तार किया जाए। आइडीए के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आरपी अहिरवार ने बताया कि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार 10 हजार की क्षमता वाला कन्वेंशन सेंटर बनाने की तैयारी शुरू की जाएगी। सुपर कारिडोर पर जगह चिह्नित करने और प्लान बनाने के लिए कंसल्टेंट नियुक्त किया जाएगा।

इस अहम निर्णय के पीछे तीन कारण

  • शहर में अब प्रवासी भारतीय सम्मेलन जैसे बड़े आयोजन हो रहे
  •  राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इंदौर की पहचान का दायरा भी बढ़ रहा
  •  इंदौर से बेहतर जगह और कहीं नहीं, यहां बड़े कन्वेंशन सेंटर की जरूरत, आइडीए ने शुरू की तैयारी
  • 10 हजार लोगों की क्षमता वाला कन्वेंशन सेंटर बनाया जाएगा
  • सुपर कारिडोर पर जगह चिह्नित करने व प्लान के लिए कंसल्टेंट नियुक्त होगा

Related Articles

Back to top button