Breaking News

आओ दर्द बांट लें …

दर्द आओ बांट लें थोड़ी बहुत

एक-दूसरे को देख मुस्कुरा लें

आई है आपदा तो टल जाएगी

ये सोच ही थोड़ा हमें बहलाएगी

थरथरा रही हैं उंगलियां मेरी

बूढ़े ढो रहे सायकिल से संगनी

बेटी अकेली चिता जला रही

शब्द बाबरा उलझकर रह गया

भाव सब आंसू बन जल रही!

©लता प्रासर, पटना, बिहार               

Check Also

मास्क ….

मास्क का विचार नहीं, सुविचार था…… उनकी मांग नहीं, भूख थी… उनकी ख्वाहिश, हिंसा, क्रांति, …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange