लखनऊ/उत्तरप्रदेश

गोरखपुर में बीजेपी MLA विपिन सिंह के घर में संग्राम, बड़े भाई ने लगाया आरोप-मुझे और मेरे परिवार को छोटे भाई से खतरा …

गोरखपुर। गोरखपुर ग्रामीण विधायक विपिन सिंह के घर में संग्राम छिड़ा हुआ है। इस बीच परिवार के विवाद से जुड़ा एक वीडियो और पुलिस को दी गई कथित तहरीर सोशल मीडिया में वायरल हो गई है। घटना, 26 अगस्त की रात की बताई जा रही है। वायरल वीडियो में विधायक विपिन सिंह और उनके भाई के परिवार के सदस्यों के बीच वाद-विवाद होते दिख रहा है।

विधायक के बड़े भाई डॉ. कौशल किशोर सिंह ने कैंट थाने में तहरीर देने के दावे के साथ आरोप लगाया कि उन्‍हें और उनके परिवार को विधायक से खतरा है। हालांकि पुलिस फिलहाल ऐसी कोई तहरीर मिलने की बात से इनकार कर रही है।

इस दौरान दोनों पक्ष एक-दूसरे का वीडियो भी बना रहे हैं। जबकि वायरल तहरीर में डॉ. कौशल की ओर से लिखा गया है कि विधायक और उनका परिवार कैंट इलाके के दाउदपुर में एक ही मकान में रहता है। कुछ प्रॉपर्टी पिता अंबिका सिंह (पूर्व विधायक) के नाम है, जबकि कुछ प्रॉपर्टी मां के नाम पर है।

विधायक, मां से पूरी प्रॉपर्टी अपने नाम कराना चाहते हैं। इसे लेकर परिवार में काफी दिनों से विवाद चल रहा है। फिलहाल इंस्पेक्टर कैंट शशिभषूण राय का कहना है कि उन्हें अभी तक इस मामले में तहरीर नहीं मिली है। इस संबंध में एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई ने भी तहरीर मिलने से इनकार किया है। हालांकि उनका कहना है कि अभी तक की जो जानकारी है उसमें यह दो सगे भाइयों का पारिवारिक विवाद है।

उधर विधायक के बड़े भाई डॉ. कौशल ने कहा- ‘विधायक भाई से मुझे और मेरे परिवार को खतरा है। भाई ने 30 अगस्त तक घर छोड़ने की धमकी दी है। इसलिए मैं घर से नहीं निकल रहा हूं। अधिवक्ता के माध्यम से कैंट पुलिस को तहरीर दिलवाई है। इंस्पेक्टर से लेकर प्रधानमंत्री तक को 27 अगस्त की शाम को रजिस्ट्री भी की है। भाई ने अपने नाम पूरी प्रापर्टी रजिस्ट्री करा ली है। मां के नाम से कुछ प्रापर्टी है, उन्हें भी गायब कर दिया है। पूरे मामले को मुख्यमंत्री तक पहुंचवा दिया है। उम्मीद है मुझे जल्द न्याय मिलेगा।’

इस बारे में पूछे जाने पर विधायक विपिन सिंह ने कहा- ‘यह मेरा पारिवारिक मामला है। कुछ लोगों से मेरी पद-प्रतिष्ठा देखी नहीं जा रही है। किसी के बरगलाने पर बहकावे में आकर जो भी आरोप मुझ पर लगाए गए हैं, इसमें किसी भी प्रकार की सत्यता नहीं है। वीडियो वायरल कर मेरी राजनीतिक छवि को धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है। मामला पुलिस प्रशासन के संज्ञान में है। पुलिस प्रशासन वायरल वीडियो को देखकर निष्पक्ष जांच कर इस मामले में उचित करवाई करे।’

Related Articles

Back to top button