लेखक की कलम से

शहीद देश पर हो गये…

हिम शिखर सा सम्मान पा

गोद धरा की सो गये

प्राण देकर भी दिलों में

बीज देशभिक्त का बो गये

युग-युगान्तर तक रहे छाया जिनकी

शजर ऐसे वो हो गये

जान देकर जांबाज हमारे

शहीद देश पर हो गये…

अनुपम अहालवत

Related Articles

Back to top button