Breaking News

प्रेम पूर्ण अस्तित्व…

प्रेम से झंकृत हृदय ले
चल पड़ी है जब नदी,
मिलन होगा उदधि से
यह नियति उसकी है बदी।

भानु सागर से निकलकर
ओर धरती के बढ़ा,
वृक्ष,पादप,प्राणि सब पर
रंग रति का है चढ़ा

©दिलबाग राज, बिल्हा, छत्तीसगढ़

Check Also

कोरोना …

  यह क्या कोहराम मचा रखा है? यों तो तुम छोटे- बड़े अमीर – गरीब …

error: Content is protected !!