Breaking News

हम भुइंया के भगवान हरन …

कतेक सुग्घर लहरावत हे,

           देखव तो धान के बाली।

मोर खेत- खार म फैले हे,

            बड़ गज्ज्ब के हरियाली।।

धान के एकेक दाना ह,

        देख सोन जइसन चमकत हे।

मेहनत के फल ल देख,

           किसान के चेहरा दमकत हे।।

              💐💐

जग के भूख मिटाए खातिर,

                  करम के बिजहा बोए हे।

येकरे परसादी तो वोहा,

             कतको सपना ल संजोए हे।।

बेटी के बिहाव रचाना,

             अउ छोटे भाई ल  पढ़ाना हे।

टूटहा-फुटहा घर कुरिया ल,

                     घलक बने बनाना हे।।

                 💐💐

खातू- कचरा के पैसा ल,

                   कइसे करके पटाबोन।

आधा थोरहा ल दे के भाई,

                       सेठ जी ल मनाबोन।।

थोक बहुत करजा छुटबो,

                    जरूरी चीज बिसाबोन।

दु चार पैसा बाँचगे त,

           बाकी के गृहस्थी चलाबोन।।

                💐💐

अब आहि,तब आहि कहिके,

                   मेंहा पढेंव रमायण गीता।

एक हाथ म आइस अउ,

                 दूसर हाथ ले होगे रीता।।

किसान के दुख ल का बतावंव,

                        जिंनगी भर लाचारी।

पेट ह कभु भरे नहीं अउ,

            उना रहिथे मोर भात के थारी।।

                 💐💐

राजनीति अउ प्रकृति,

             हम दुनों के मार ल सहिथन।

हम भुइंया के भगवान हरन,

                      देख कलेचुप  रहिथन।।

©श्रवण कुमार साहू, राजिम, गरियाबंद (छग)

Check Also

प्रेम …

 (लघु कथा ) उसे अपने अमीर रिश्तेदारों से प्रेम था।मैं ग़रीब थी।उसने मेरा अपमान किया।घर …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange