Breaking News

बांग्लादेश को प्रधानमंत्री मोदी की बड़ी सौगात: ओरकांडी मंदिर में पूजा के बाद कहा- यहां गर्ल्स प्राइमरी स्कूल खोलेंगे, मिडिल स्कूलों को अपग्रेड करेंगे …

नई दिल्ली (पंकज यादव) । बांग्लादेश के दौरे के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश को एक सौगात दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत की सरकार ओरकांडी में लड़कियों के लिए एक प्राइमरी स्कूल खोलेगी। यहां के मिडिल स्कूलों को अपग्रेड भी किया जाएगा। मोदी ने सबसे पहले जशोरेश्वरी मंदिर में काली मां के दर्शन किए। इसके बाद उन्होंने गोपालगंज जिले के तुंगीपारा में बंगबंधु स्मारक पहुंचकर राष्ट्रबंधु के पिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद वे मतुआ समुदाय के ओरकांडी मंदिर पहुंचे और वहां पूजा-अर्चना की। ओराकांडी वहीं जगह है, जहां मतुआ समुदाय के संस्थापक हरिशचंद्र ठाकुर का जन्म हुआ था। मतुआ समुदाय बंगाल चुनाव के लिहाज से भी काफी मायने रखता है।

[img-slider id="25744"]

यहां मतुआ समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में रहने वाले मतुआ समाज के हजारों लोग यहां इस मंदिर में आकर जैसा महसूस करते हैं, आज मैंने भी वैसा ही अनुभव किया। इस अवसर की प्रतीक्षा मुझे कई वर्षों से थी। जब मैं प्रधानमंत्री बनने के बाद 2015 में पहली बार बांग्लादेश आया था, तब भी मैंने इस मंदिर में आने की इच्छा जताई थी, लेकिन मुझे वह सौभाग्य अब मिला है। मुझे याद है कि पश्चिम बंगाल में ठाकुर नगर में जब मैं गया था, तब वहां मेरे मतुआ भाई-बहुनों में मुझे बहुत प्यार सत्कार दिया था। खासकर बोरोमा का स्नेह मां की तरह रहा। उन्होंने बांग्लादेश की आजादी के 50 साल पूरे होने पर ढेरों बधाई और शुभकामनाएं दीं।

ओरकांडी में भारत सरकार लड़कियों के मिडिल स्कूल को अपग्रेड करेगी और भारत सरकार द्वारा यहां एक प्राइमरी स्कूल भी स्थापित किया जाएगा। ये भारत के करोड़ों लोगों की तरफ से हरिचंद ठाकुर को श्रद्धांजलि है। आज भारत और बांग्लादेश दोनों देश कोरोना का मजबूती से मुकाबला कर रहे हैं। मेड इन इंडिया वैक्सीन बांग्लादेश के नागरिकों तक भी पहुंचे, भारत इसे अपना कर्तव्य समझ के कर रहा है।

आज भारत और बांग्लादेश के सामने जिस तरह की समान चुनौतियां हैं, उनके समाधान के लिए हरिचंद देव की प्रेरणा बहुत अहम है। दोनों देशों का साथ मिलकर हर चुनौती का मुकाबला करना जरूरी है। भारत और बांग्लादेश दोनों ही देश अपनी प्रगति से पूरे विश्व की प्रगति देखना चाहते हैं। दोनों ही देश दुनिया में अस्थिरता, आतंक और अशांति की जगह स्थिरता, प्रेम और शांति चाहते हैं।

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी दक्षिण-पूर्व सतखिरा स्थित जेशोरेश्वरी काली मंदिर पहुंचे, जहां उन्होंने पूजा-अर्चना की। इसे 51 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है। उन्होंने कहा, ‘मैंने कामना की कि मां काली दुनिया को कोरोना के संकट से मुक्ति दिलाएं।’ मोदी ने काली मां की प्रतिमा को हाथ से बना हुआ मुकुट भी चढ़ाया। मुकुट को चांदी का बना हुआ है, जिस पर सोने की प्लेटिंग की गई है। इसे पारंपरिक कलाकारों ने करीब तीन हफ्ते में तैयार किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण-पूर्व सतखिरा स्थित जेशोरेश्वरी मंदिर में काली मां की प्रतिमा पर हाथ से बना हुआ मुकुट भी चढ़ाया।

इसके बाद मोदी ने बंगबंधु स्मारक में विजिटर बुक में अपना संदेश भी लिखा और एक पेड़ भी लगाया। इस दौरान बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना उनके साथ मौजूद रहीं। यह उनका पैतृक गांव भी है। यह पहली बार है, जब कोई भारतीय प्रधानमंत्री यहां पहुंचे हैं। इससे पहले बांग्लादेश के 50वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर यात्रा के पहले दिन शुक्रवार को प्रधानमंत्री मोदी ने जहां राजनेताओं से मुलाकात की थी।

उन्होंने कहा, ‘मेरी कोशिश रहती है कि मौका मिले तो इन 51 शक्तिपीठों में जाकर माथा टेकूं। मैंने सुना है कि यहां नवरात्रि में जब मां काली का मेला लगता है, तो सीमा के इस पार से भी बड़ी तादाद में भक्त यहां आते हैं। यहां एक कम्युनिटी हॉल की आवश्यकता है। यह भक्तों के लिए और आपदा के समय लोगों के लिए शरणस्थल का काम करे। भारत सरकार यह कम्युनिटी हॉल बनवाएगी।’

बांग्लादेश सरकार ने प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा से पहले ही जशोरेश्वरी मंदिर का जीर्णोद्धार किया है। बांग्लादेश के लिए रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया था कि वे प्राचीन जशोरेश्वरी काली मंदिर में देवी काली की पूजा करने के लिए काफी उत्साहित हैं।

PM मोदी के बांग्लादेश दौरे का वहां विरोध भी हो रहा है। बांग्लादेश के कट्‌टर इस्लामिक ग्रुप हिफाजत-ए-इस्लाम के सदस्य मोदी के दौरे के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। बांग्लादेश की पुलिस और हिफाजत-ए-इस्लाम के सदस्यों के बीच झड़प के बाद शनिवार तक वहां के 5 लोगों की मौत हो चुकी है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि चटगांव में प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में 5 लोग घायल हुए थे, जिनकी चटगांव के मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान मौत हो गई।

बीते साल कोरोना संक्रमण के शुरुआत के बाद प्रधानमंत्री की जो विदेश यात्रा मार्च 2020 में रद्द की गई थी वो बांग्लादेश की ही थी। प्रधानमंत्री मोदी को शेख मुजीबुर रहमान जन्मशती कार्यक्रम में शरीक होने के लिए पहले 17 मार्च 2020 को बांग्लादेश की यात्रा करनी थी। हालांकि, कोविड-19 महामारी के बीच अपनी विदेश यात्राओं का सिलसिला शुरू करने के लिए उन्होंने पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश को ही चुना।

Check Also

दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने मोदी सरकार को चेताया- सिंगापुर वाला कोरोना वेरिएंट भारत में ला सकता है तीसरी लहर, बच्चों के लिए खतरनाक …

नई दिल्ली । दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को सिंगापुर में मिले कोरोनावायरस …

error: Content is protected !!