Breaking News

पत्रकारों के लिए शिवराज सिंह चौहान सरकार का अहम ऐलान, कोरोना संक्रमित होने पर देगी इलाज का पूरा खर्च …

भोपाल। प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक्स व डिजिटल मीडिया से जुड़े पत्रकार वर्ग व उनके परिवारों के कोविड संक्रमण के इलाज का खर्च भाजपा की शिवराज सरकार उठाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यह अहम घोषणा की है। बता दें कि देश अभी महामारी की दूसरी लहर का सामना कर र हा है।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के संकट को देखते हुए मध्यप्रदेश सरकार ने शुक्रवार को राज्य के तमाम मीडियाकर्मियों व उनके परिवारों के लिए कोविड संक्रमण इलाज के खर्च को उठाने का जिम्मा लिया। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की कि प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व डिजिटल मीडिया के पत्रकारों के कोविड-19 संक्रमण के इलाज का खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मीडिया के पत्रकारों व उनके परिवार के कोविड-19 इलाज संबंधित तमाम खर्च का वहन राज्य सरकार करेगी।’ मुख्यमंत्री ने यह जानकारी अपने आधिकारिक ट्वविटर हैंडल पर वीडियो मैसेज के जरिए दी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया के पत्रकार साथी दिन रात अपने पत्रकारिता धर्म का निर्वहन कर रहे हैं। राज्य में पत्रकार बीमा योजना के तहत अधिमान्य व गैर अधिमान्य पत्रकारों के इलाज की सुविधा है। अब यदि पत्रकार या उनके परिवार का कोई सदस्य संक्रमित होता है तो उनके इलाज का खर्च राज्य सरकार उठाएगी।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए भी पेंशन का ऐलान किया था।साथ ही इन बच्चों की पढ़ाई का खर्चा उठाने का जिम्मा लेते हुए अनाथ हुए परिवारों को हर महीने मुफ्त राशन देने का भी वादा किया है। उन्होंने कहा था, ‘महामारी ने कई परिवारों को तोड़कर रख दिया। कई परिवार ऐसे हैं, जिनके बुढ़ापे का सहारा छिन गया और कुछ ऐसे बच्चे हैं, जिनके सिर से पिता का साया उठ गया है। वे बच्चे, जिनके पिता, अभिभावक का साया उठ गया और कोई कमाने वाला नहीं है, इन परिवारों को रु.5000 प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी।’

मध्य प्रदेश में गुरुवार तक मिली जानकारी के अनुसार, नए कोरोना मरीजों की संख्या में अब तेजी से गिरावट दर्ज की जा रही है। पिछले दिनों के मुकाबले 11 मई को 784 और 12 मई को 551 नए मरीज कम हुए। पांच मई को प्रदेश में 12,421 नए कोरोना मरीज मिले थे और संक्रमण दर 18.2 फीसद थी। इसके बाद से इसकी संख्या और संक्रमण दर दोनों में लगातार कमी आई है। राज्य के विभिन्न जिलों में गुरुवार को कुल मिलाकर 74 मरीजों की कोरोना के चलते मौत हुई है। इसके साथ ही अब तक मरने वालों की संख्या 6753 हो गई है। गुरुवार को 10,157 मरीज स्वस्थ हुए। हालांकि, सक्रिय मरीजों की संख्या अब भी 1,08,116 है। प्रतिदिन 65 हजार से अधिक सैंपल की जांच हो रही है। रैपिड किट से जांच की संख्या बढ़ने के बाद अब जांच के लिए लंबित सैंपलों की संख्या दो से तीन हजार के बीच ही रहती है।

error: Content is protected !!