मध्य प्रदेश

खंडवा के तोरनी में रात बिताएंगे राहुल गांधी छैगांवमाखन में होगी नुक्कड़ सभा ….

खंडवा। भारत जोड़ो यात्रा पर निकले राहुल गांधी संभवत: 22 नवंबर को मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में प्रवेश करेंगे। यात्रा से पूर्व की जा रही तैयारियों को लेकर प्रदेश के कांग्रेस नेता और पदाधिकारी सक्रिय नजर आ रहे हैं। यात्रा के दौरान राहुल गांधी खंडवा जिले के छैगांवमाखन में नुक्कड़ सभा लेंगे। वहीं, तोरनी में राहुल गांधी रात्रि विश्राम करेंगे। यहां से अगले दिन 23 नवंबर को सुबह खरगोन जिले के खेरदा से यात्रा प्रारंभ होगी। भानभरड़ के पहले बनाए गए लंच पाइंट पर दोपहर का भोजन होगा। इसके बाद शाम चार बजे से यात्रा सनावद पहुंचेगी, यहां जनसभा के बाद मोरटक्का में रात्रि विश्राम होगा।

यात्रा के मध्यप्रदेश प्रभारी जेपी अग्रवाल के अनुसार अगले दिन 24 नवंबर को मोरटक्का से यात्रा फिर आरंभ होगी, जो बड़वाह होकर मनिहार में लंच होने के पश्चात इंदौर जिले की ओर आगे बढ़ेगी। श्री अग्रवाल यात्रा के रूट का निरीक्षण करने आए थे। इस दौरान उनके साथ भारत जोड़ो यात्रा के प्रभारी पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, भारत जोड़ो यात्रा खंडवा, बुरहानपुर, खरगोन जिले के स्वागत कार्यक्रम यात्रा समन्वयक पूर्व मंत्री अरुण यादव, सह प्रभारी कुलदीप सिंह इंदौरा, सुधांशु त्रिपाठी, सीपी मित्तल, संजय कपूर, सज्जन सिंह वर्मा, सचिन यादव, खंडवा बुरहानपुर प्रभारी कैलाश कुंडल सहित अन्य वरिष्ठ कांग्रेसी उपस्थित रहे।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी जेपी अग्रवाल सहित दर्जनभर से ज्यादा वरिष्ठ नेता यात्रा के विश्राम स्थल बोदरली गांव पहुंचे। उन्होंने गांव के बाहर उस खेत को देखा, जहां राहुल गांधी का टेंट लगने वाला है। जेपी अग्रवाल ने कहा कि यात्रा का आगामी विधानसभा अथवा लोकसभा चुनाव से कोई संबंध नहीं है।

इस दौरान पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उन्हें राजनीति छोड़कर ज्योतिषाचार्य बन जाना चाहिए। दरअसल, गत दिनों कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि देश की जनता राहुल गांधी से गले मिलेगी, हाथ मिलाएगी, लेकिन सत्ता की बागडोर उनके हाथों में नहीं सौंपेगी।

खंडवा-बुरहानपुर की जिम्मेदारी सिंह को सौंपने पर बीजेपी ने पूछा- यदुवंशियों से दूरी क्यों!

मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में अब निर्दलीय विधायक सुरेन्द्र सिंह शेरा की भी एंट्री हो गयी है। ये वही शेरा हैं, जो पिछले विधानसभा चुनाव (2018) में टिकट न मिलने पर कांग्रेस से बागी होकर निर्दलीय मैदान में उतर गए थे और विधायक चुने गए थे। यात्रा में शेरा की सक्रियता ने कई लोगों की भौंहें टेढ़ी कर दी हैं। बीजेपी ने इसे कांग्रेस के कद्दावर नेता अरुण यादव की बेइज्जती बताया है, जबकि नरोत्तम मिश्रा ने अपने शायराना अंदाज में कांग्रेस पर तंज कसा है।

दरअसल, बुरहानपुर से निर्दलीय विधायक सुरेन्द्र सिंह शेरा को कांग्रेस ने खंडवा और बुरहानपुर में राहुल गांधी की यात्रा का प्रभारी बनाया है। शेरा खंडवा और बुरहानपुर में राहुल गांधी की यात्रा के दौरान सभी व्यवस्थाओं के प्रभारी रहेंगे। पीसीसी चीफ कमलनाथ के निर्देश के बाद शेरा को यात्रा की सभी जिम्मेदारी दी गई हैं। कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ और कद्दावर नेता अरुण यादव भी इसी क्षेत्र से हैं, लेकिन उन्हें इस जिम्मेदारी से दूर रखा गया है। ज्ञात हो कि अरुण यादव और कमलनाथ के बीच मतभेद की खबरें बीच-बीच में आती रही हैं। इसलिए बीजेपी को तो मानो बोलने का मौका मिल गया है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसा कि खंडवा बुरहानपुर की यात्रा की जिम्मेदारी निर्दलीय विधायक शेरा को दी गई। उन्होंने कहा हे नाथ, यदुवंशियों से इतनी दूरी क्यों?

वहीं, खंडवा बुरहानपुर में भारत जोड़ो यात्रा की जिम्मेदारी अरुण यादव को नहीं दिए जाने पर मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि गुटों में बंटी हुई कांग्रेस तार-तार हो गई है। कमलनाथ ने सबकी सुपारी ले ली है। राहुल गांधी सबसे पहले सिख दंगों को लेकर माफी मांगें और कमलनाथ को कांग्रेस पार्टी से निकालें। कमलनाथ ने कई नेताओं की जमीन समाप्त कर दी। अरुण यादव को पहले लोकसभा चुनाव का टिकट नहीं दिया। अब उनकी बेइज्जती करते हुए यात्रा से बाहर कर दिया। कांग्रेस में सब कुछ खराब चल रहा है।

कांग्रेस का पलटवार: कहा- बीजेपी अपने वरिष्ठ नेताओं की चिंता करे

भाजपा नेताओं के तंज पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अजय सिंह यादव ने कहा कि बीजेपी के नेता अपनी पार्टी और अपने वरिष्ठ नेताओं की चिंता करे। उनके नेता असंतुष्ट होकर अज्ञातवास में चले गए। कांग्रेस पार्टी में सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को पर्याप्त सम्मान और काम करने की जगह मिलती है। अरुण यादव के पास भारत जोड़ो यात्रा की महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां हैं। अरुण यादव समय-समय पर पार्टी के महत्वपूर्ण काम करते हैं। बीजेपी के भ्रम जाल में जनता नहीं आने वाली है। बीजेपी झूठ बोलती है।

Related Articles

Back to top button