देश

‘मातोश्री’ के बाहर हनुमान चालीसा का ऐलान, राणा दंपति ‘सबक’ सिखाने तैयार शिवसेना को …

मुंबई। महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास ‘मातोश्री’ के बाहर हनुमान चालीसा के पाठ का मुद्दा गरमा गया है। शिवसेना नेता अनिल देसाई ने राणा दंपति पर कानून-व्यवस्था बिगाड़ने के आरोप लगाए। मातोश्री के बाहर मौजूद देसाई ने कहा, ‘उन्होंने कानून और व्यवस्था की स्थिति को चुनौती दी है। उन्हें ऐसा करने के लिए किसी ने प्रेरित किया है। शिवसेना कार्यकर्ता यहां मातोश्री की रक्षा के लिए हैं।’ इधर, मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा, ‘हम इंतजार कर रहे हैं, हम हनुमान चालीसा सामने रखेंगे। हम उन्हें सबक सिखाने का इंतजार कर रहे हैं।’

इधर, शिवसेना कार्यकर्ताओं ने सांसद नवनीत राणा और विधायक रवि राणा के घर के बार प्रदर्शन किया। वहीं, हालात की गंभीरता के मद्देनजर सीएम के आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। राणा दंपति ने सरकार पर परेशान करने समेत कई आरोप लगाए हैं। खास बात है कि राज्य में मस्जिदों पर लाउडस्पीकर के इस्तेमाल को लेकर विवाद जारी है।

बडनेरा से निर्दलीय विधायक रवि राणा और उनकी पत्नी सांसद नवनीत राणा ने मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का जाप करने का फैसला किया था। इसके बाद सीएम आवास की सुरक्षा में इजाफा किया गया था। दोनों नेताओं के इस ऐलान के बाद ही शिवसेना नेताओं ने मुंबई के खार स्थित राणा दंपति के घर के बाहर जमकर प्रदर्शन किया।

विधायक राणा ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए पूरी घटना पर दुख जताया है। उन्होंने लिखा कि पुलिस उन्हें घर के बाहर नहीं जाने दे रही है। साथ ही उन्होंने आरोप लगाए कि शिवसेना ने आवास पर हमला करने की कोशिश की। राणा ने कहा, ‘हमने हमेशा मातोश्री को मंदिर माना है… उद्धव ठाकरे केवल सियासी फायदा देख रहे हैं।’

उन्होंने कहा, ‘ये बाला साहेब के सदस्य नहीं हैं क्योंकि अगर होते तो वो हमारे साथ हनुमान चालीसा पढ़ते। CM महाराष्ट्र में अपने पावर का दुरुपयोग कर रहे हैं। शिवसेना हमारे घर में घुसकर हम पर हमला करने की कोशिश कर रहे हैं। अगर हम सुरक्षित नहीं है तो आम जनता कैसी सुरक्षित रहेगी’

उनकी पत्नी ने कहा, ‘महाराष्ट्र के सीएम ने शिवसेना कार्यकर्ताओं को हमें परेशान करने के आदेश दिए हैं। वे बैरिकेड तोड़ रहे हैं। मैं दोहरा रही हूं कि मैं बाहर जाऊंगी और मातोश्री पर हनुमान चालीसा का पाठ करूंगी। सीएम केवल लोगों को जेल में डालना जानते हैं।’

Related Articles

Back to top button