Breaking News

अल्ट्रासाउंड जांच में खुलासा : बिहार में गर्भवती महिला की कर दी नसबंदी …

कैमूर । बिहार के कैमूर जिले के नुआंव प्रखंड के पीएचसी गर्रा में डॉक्टर ने एक गर्भवती महिला का बंध्याकरण (नसबंदी) कर दिया। जिस महिला की नसबंदी की गई, अल्ट्रासाउंड जांच में उसके गर्भवती होने का खुलासा हुआ, जिसके बाद हड़कंप मच गया। घबराए परिजन आनन-फानन में पीएचसी पहुंचे और डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही का आरोप लगाया व कार्रवाई की मांग की। इस बीच प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने कहा है कि नसबंदी पूरी तरह सफल है। लोगों का कहना है कि यदि चिकित्सा पदाधिकारी की बात सही है तो इसका मतलब यह हुआ कि इसकी जानकारी रहते हुए महिला का गर्भावस्था में ही नसबंदी कर दिया गया।

दरअसल, नुआंव गांव निवासी एनुल हक की पत्नी शहजादी बीबी की नसबंदी 5 दिसंबर 2020 को डॉ. बदरुद्दीन ने पीएचसी गर्रा में किया। गुरुवार को महिला की अचानक तबीयत बिगड़ी तो परिजनों ने उसे प्रखंड मुख्यालय स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। वहां के चिकित्सकों ने जांच के दौरान संदेह होने पर महिला की अल्ट्रासाउंड जांच करायी तो उसके गर्भवती होने का संदेह सच साबित हुआ। इसके बाद परिजन अस्पताल पहुंच गये।

परिजनों ने सवाल उठाया कि नसबंदी के पहले पीएचसी में जांच में लापरवाही बरतने वाले पैथोलॉजिस्ट व ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर के खिलाफ सिविल सर्जन तत्काल कार्रवाई करें। इस संबंध में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. महादेव प्रसाद ने बताया कि नसबंदी पूरी तरह सफल है। जच्चा व गर्भ में पल रहा शिशु दोनों सुरक्षित हैं। कभी-कभी पैथोलॉजिस्ट की जांच में मानवीय भूल या तकनीकी त्रुटि की वजह से रिपोर्ट निगेटिव आ जाती है। गर्भस्थ शिशु के जन्म लेने के बाद अब दोबारा महिला गर्भधारण नहीं कर सकती।

बताया जाता है कि एनुल हक नुआंव बाजार में सब्जी की दुकान चलाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करता है। उसने सरकार के परिवार नियोजन की कवायद का भागीदार बनने व छोटा परिवार के नजरिए से पत्नी की नसबंदी कराई। पत्नी के गर्भवती होने के खुलासे के बाद उसके होश उड़ गए।

Check Also

चुनावी वादा पूरा करें प्रधानमंत्री : ममता ने लिखा लेटर, बंगाल के किसानों को पीएम मोदी ने 18 हजार रुपए देने की थी घोषणा …

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को लेटर लिखकर राज्य के …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange