नई दिल्ली

मोदी की मां के वजन के बराबर सोने से चमका काशी विश्वनाथ मंदिर का गर्भगृह, दक्षिण भारत के भक्त ने किया दान …

वाराणसी। प्रधानमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वानाथधाम की आभा और बढ़ गई है। विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह की सभी दीवारों में भी सोना लगा दिया गया है। गर्भगृह की दीवारों में जड़ित सोना दक्षिण भारत के एक श्रद्धालु ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित होकर उनकी मां हीराबेन के तौल के बराबर दान किया था। यह संयोग ही है कि सोना मड़ने के बाद सबसे पहले पीएम मोदी को ही यहां आकर बाबा विश्वनाथ का अभिषेक करने का मौका मिला। 

हालांकि श्रद्धालु ने अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर मंदिर प्रशासन के साथ मिलकर गर्भगृह में सोना मढ़वाया है। गर्भगृह के अंदर 37 किलो सोना लगाने का काम पूरा हो चुका है। अब स्वर्ण शिखर से नीचे बचे हिस्सों और चौखट आदि बदलवाने के लिए 24 किलो सोना लगाने की योजना है। महाशिवरात्रि के बाद यह काम शुरू हो जाएगा।

बताया जाता है कि दक्षिण भारत के एक भक्त ने तीन महीने पहले मंदिर आकर इस बात की जानकारी ली थी कि गर्भगृह में कितना सोना लगेगा। उसने सोना दान करने की बात कही थी। यह भी कहा था कि उसका नाम गुप्त रखा जाएगा।

मंदिर प्रशासन की अनुमति के बाद सोना लगाने के लिए मापने और सांचा बनाने की तैयारी शुरू हुई। महीनेभर की तैयारी के बाद शुक्रवार को सोना लगाने का काम शुरू हुआ, जो रविवार दिन में पूरा हुआ। काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के साथ ही मंदिर के शेष हिस्से और गर्भगृह को स्वर्णजड़ित करने की कार्ययोजना बनने लगी थी।

वर्ष 1835 में पंजाब के तत्कालीन महाराजा रणजीत सिंह ने विश्वनाथ मंदिर के दो शिखरों को स्वर्णमंडित कराया था। तब साढ़े 22 मन सोना लगा था। इसके बाद कई बार सोना लगाने व उसकी सफाई का कार्य प्रस्तावित हुआ लेकिन गतिरोध आता रहा।

मंदिर प्रशासन के मुताबिक तकरीबन 30 घंटे में रविवार दोपहर एक बजे गर्भगृह के अंदर की पूरी दीवार पर सोने की परत चढ़ा दी गई। मंदिर के गर्भगृह की दीवारों को स्वर्णमंडित करने के लिए 10 सदस्यीय कारीगरों की टीम ने काम किया। दीवारों को स्वर्णमंडित करने को सोने के पत्तर तैयार किए गए। ये स्वर्ण पत्र टुकड़ों में थे। स्वर्ण आभूषण बनाने वाली नई दिल्ली की एक संस्था ने सख्त सुरक्षा घेरे के बीच सोने की प्लेटों को ट्रक से मंदिर पहुंचाया था।

प्रधानमंत्री शाम करीब 6 बजे मंदिर परिसर पहुंचे विश्वनाथ द्वार से प्रवेश करने के पश्चात मंदिर परिसर के उत्तरी गेट से गर्भगृह में प्रवेश किए। मंदिर के अर्चक सत्यनारायण चौबे, नीरज पांडे और श्री देव महाराज ने बाबा का षोडशोपचार पूजन कराया। पूजन के पश्चात प्रधानमंत्री ने बाबा काशी विश्वनाथ से जनकल्याण की कामना की।

प्रधानमंत्री ने परिसर के अंदर चारों ओर लगे स्वर्ण के कार्य को देखा। उन्होंने कहा कि दीवारों पर उकेरी गई विभिन्न देवताओं की आकृतियां स्वर्णमंडन के बाद और भी स्पष्ट प्रदर्शित हो रही हैं। स्वर्ण मंडन के बाद गर्भ गृह की आभा कई गुना बढ़ गई है।

Related Articles

Back to top button