मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का मरवाही उपचुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने के पहले मास्टर स्ट्रोक, पेंड्रा और गौरेला नगर पंचायत को बनाया नगर पालिका

13

पेंड्रा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मरवाही विधानसभा उपचुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने के पहले मास्टर स्ट्रोक लगाते हुए गौरेला और पेंड्रा नगर पंचायत को नगर पालिका के रूप में अपग्रेड करने की घोषणा की है। दो माह पूर्व उन्होंने मरवाही ग्राम पंचायत को नगर पंचायत का दर्जा दिया है। भूपेश बघेल गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला और यहां के लोगों से भलि-भांति परिचित हैं। मगर नगर पालिका का दर्जा दिलाने के मामले में जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंग अग्रवाल की महत्वपूर्ण भूमिका रही्।

मरवाही विधानसभा उपचुनाव को मुख्यमंत्री श्री बघेल पूरी गंभीरता के साथ लड़ना चाहते हैं। यही वजह है कि जनभावनाओं का वे विशेष ख्याल रख रहे हैं। पहले मरवाही ग्राम पंचायत को नगर पंचायत बनाने की घोषणा की। यहां के लोग सालों से नगर पंचायत की मांग कर रहे थे मगर किसी ने ध्यान नहीं दिया। अब मरवाही विधानसभा का उपचुनाव होना है। आचार संहिता लगने के ठीक पहले सरकार ने इस जिले के दोनों नगर पंचायत गौरेला और मरवाही को नगर पालिका का दर्जा देने की घोषणा की है।

गौरतलब है कि प्रदेश के राजस्व मंत्री और गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले के प्रभारी मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल ने इन नगर पंचायतों के भ्रमण के दौरान वहां के नागरिकों की इस संबंध में भावनाओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराया जिस पर मुख्यमंत्री ने जनभावनाओं को देखते हुए इन दोनों ही नगर पंचायतों को नगर पालिका का दर्जा देने की घोषणा की है।