Breaking News

छत्तीसगढ़ की कांति व भामेश्वरी को मिलेगा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार

रायपुर {गेंदलाल शुक्ल} । जनवरी-2020 में नई दिल्ली में छोटी सी उम्र में अपने साहस का परिचय देने वाले देश के बच्चों को जब भारतीय बाल कल्याण परिषद नई दिल्ली द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2019 से सम्मानित किया जाएगा, तब उस पंक्ति में छत्तीसगढ़ की दो बच्चियां भी खड़ीं होंगी। दोनों साहसी बच्चियों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार देने के लिए छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा अनुशंसा की गई थी।

ये बच्चियां हैं धमतरी जिले की भामेश्वरी निर्मलकर और सरगुजा जिले की कांति सिंग। इन्होंने अपनी सूझबूझ से न केवल किसी की जान बचाई, बल्कि छोटी सी उम्र में ही अपने साहस का परिचय देकर अपने परिवार, राज्य और देश का नाम रौशन किया है। इन बच्चियों ने अपने अदम्य साहस से साबित कर दिखाया कि इंसानियत को समझने के लिए उम्र नहीं, बल्कि मन में कुछ कर दिखाने का जज्बा होना चाहिए फिर चाहे अपनी जान ही जोखिम में क्यों न डालनी पड़े।

तैरना नहीं आने के बाद भी बचाई दो बच्चियों की जान

धमतरी जिले के कानीडबरी गांव में रहने वाली भामेश्वरी निर्मलकर, पिता जगदीश निर्मलकर ने 12 साल की उम्र में ही अपनी बहादुरी का परिचय देकर गांव की दो बालिकाओं को तालाब में डूबने से बचाया। कक्षा सातवीं की छात्रा भामेश्वरी ने 17 अगस्त 2019 में यह साहसिक कारनामा कर दिखाया। वह बताती है कि गांव की दो बालिकाएं सोनम और चांदनी स्कूल से छुट्टी होने के बाद गांव के तालाब में नहाने गईं थीं। वे दोनों खेलते-खेलते तालाब की गहराई से अंजान आगे बढ़तीं गईं और डूबने लगीं।

भामेश्वरी ने बताया कि वह तालाब में कपड़ा धोने के लिए पहुंची थी। दोनों बच्चियों को तालाब में न देखकर उसका मन आशंका से भर उठा और बिना इस बात की परवाह किए कि उसे तैरना तक नहीं आता है, उसने तालाब में छलांग लगा दी। किसी तरह वह उन्हें खींचकर बाहर ले आई। जिस वक्त ये हादसा हुआ उस वक्त तालाब के आस-पास कोई और नहीं था।

भामेश्वरी कहती है कि उस समय उसे कुछ सूझा नहीं, उसके मन में केवल दोनों बच्चियों की जान बचाने का ख्याल आया था। बाद में गांव की ही एक महिला की मदद से भामेश्वरी अचेत पड़ी उन बच्चियों की जान बचाने में सफल हो गई। गांववालों की सहायता से सोनम और चांदनी को सुरक्षित उनके परिजनों को सौंप दिया गया।

भामेश्वरी के इस साहस के लिए गांववालों से लेकर स्कूल के प्राचार्य, शिक्षकों और अन्य बच्चों ने भी उसकी जमकर तारीफ की। घटना की जानकारी मिलने पर जिले के कलेक्टर ने खुद राज्य वीरता पुरस्कार और राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए भामेश्वरी के नाम की अनुशंसा की।

हाथियों को चकमा देकर बहन की जान बचाई

सरगुजा जिले के मोहनपुर गांव की रहने वाली 7 साल की बालिका कांति सिंग, पिता विनोद सिंग का नाम भी शामिल है। चौथी कक्षा में छात्रा कांति सिंग ने पिछले साल मात्र 6 साल की उम्र में अपनी जान की परवाह किये बगैर जंगली हाथियों के हमले से अपनी 3 साल की छोटी बहन की जान बचाई थी। सरगुजा जिले का यह गांव काफी समय से जंगली हाथियों के आतंक से पीड़ित क्षेत्र है। आए दिन यहां हाथी पहुंचते हैं और घरों के साथ-साथ खड़ी फसल को तहस-नहस करके चले जाते हैं। हाथी मवेशियों के अलावा लोगों पर भी हमला कर देते हैं और उन्हें मार डालते हैं। 17 जुलाई, 2018 को ऐसा ही नजारा गांव में देखने को मिला, जब जंगली हाथियों का एक बड़ा झुंड वहां पहुंच गया।

गांववाले जान बचाने के लिए अपने घरों से निकल कर भागने लगे। हाथी खोराराम कंवर के घर को तोड़ते हुए उसकी बाड़ी तक पहुंचकर वहां मक्के की फसल को बर्बाद करने लगे। हाथियों के डर से पूरा परिवार बाहर भागने लगा, इस दौरान वे घर पर 3 साल की मासूम बच्ची को ले जाना भूल गए। बाद में उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ, लेकिन किसी की हिम्मत घर वापस जाने की नहीं हो रही थी। ऐसे में कांति ने न आव देखा न ताव, बस घर की तरफ दौड़ लगा दी। कांति जंगली हाथियों के बगल से फुर्ती से निकलती हुई घर पहुंची और अपनी छोटी बहन को हाथियों की नजरों से बचते-बचाते उसे परिवार वालों तक पहुंचाने में सफल हो गई। उस रात हाथियों ने उसके पूरे घर के साथ-साथ आस-पास के घरों को काफी नुकसान पहुंचाया।

कांति ने इस तरह अपनी सूझबूझ से अपनी बहन की जान बचा ली। उसने इस बात की भी परवाह नहीं कि उसके साथ कुछ अनहोनी भी हो सकती थी। पूरे गांव के लोगों ने इस साहस के लिए कांति की पीठ थपथपाई और कलेक्टर ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए उसके नाम की अनुशंसा की। कांति को अब यह सम्मान मिलने जा रहा है।

राज्य वीरता पुरस्कार भी मिल चुका

वर्ष 2019 में कांति के इस साहसिक कदम की छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी प्रशंसा कर चुके हैं। पिछले वर्ष छत्तीसगढ़ शासन के महिला और बाल विकास विभाग द्वारा कांति को राज्य वीरता पुरस्कार 2018 से सम्मानित किया गया। इसका क्रियान्वयन छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा किया गया था। 26 जनवरी 2019 को गणतंत्र दिवस के अवसर पर रायपुर में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कांति को यह सम्मान प्रदान किया। पुरस्कार के रूप में कांति को प्रमाण पत्र, मैडल के साथ ही 15 हजार की राशि का चेक प्रदान किया गया। कांति को आगे की पढ़ाई के लिए राज्य शासन की ओर से स्कालरशिप भी दी जाएगी।

Check Also

एंटीजन के नतीजे बता रहे दुर्ग जिले में एक हफ्ते में 22 प्रतिशत घटा संक्रमण …

रायपुर (गुणनिधि मिश्रा) । बीते एक हफ्ते में दुर्ग जिले में कोरोना संक्रमण 22 फीसदी …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange