Breaking News
.

बाल दिवस, बचपन से बदलाव तक…

अंतर्राष्ट्रीय महिला काव्य मंच “मन से मंच तक अहमदाबाद इकाई की नवम्बर माह की काव्य गोष्ठी संस्थापक आ. नाज सर के  सान्निध्य में  14/11/21 रविवार को समय 3:30 से 5:30 सायंकाल आयोजित की गई|

काव्य गोष्ठी में “बाल दिवस,बचपन से बदलाव तक ”विषय की कविताओं से मंच गुंजायमान हो उठा। इस काव्य गोष्ठी को दो भागों में विभाजित किया गया । प्रथम भाग में काव्य गोष्ठी हुई जिसमें सभी कवियित्रियों ने अपनी-अपनी कविताओं के इन्द्रधनुषीय रंग बिखेरे।

दूसरे भाग में सुश्री आभा चौहान के काव्य-संग्ह ‘सौहार्दिका’ का विमोचन आ. सुश्री मधु सोसि एवं डॉ. प्रणव भारती के द्वारा किया गया । गोष्ठी का आरंभ हर बार की भाँति सुश्री मधु प्रसाद द्वारा रचित व स्वर बद्ध  स्वागत गीत से हुआ ।  मंच गीत के पश्चात् सुश्री कविता पंत को सरस्वती वंदना के लिए आमंत्रित किया गया। कविता पंत ने सस्वर माँ शारदा की स्तुति करके मंच पर माँ की पावन उपस्थिति का आह्वाहन किया।

उपरान्त  कविता पंत ने  अध्यक्ष सुश्री मधु सोसि को अध्क्षीय उद्बोधन लिए आमंत्रित किया। सोसि जी ने अपने उद्बोधन  में मुख्य अतिथि राष्ट्रीय सचिव डॉ.रचना निगम व तीन राज्यों , महाराष्ट्र , गुजरात व गोवा की प्रभारी का स्वागत किया। उन्होंने राजकोट इकाई की अध्यक्ष सुश्री श्रद्धा रावल व आंणद इकाई की अध्यक्ष सुश्री धारा गोस्वामी व आमंत्रित कवियित्री सुश्री प्रमिला कौशिक का भी हार्दिक स्वागत किया ।

तत्पश्चात् रिले संचालन के लिए कविता पंत को गोष्ठी की बागडोर सौपी गई । गोष्ठी का श्री गणेश खूब उत्साह से हुआ। रिले संचालन अहमदाबाद इकाई का एक सफल प्रयोग रहा है |

मंच पर निम्न  सम्मानित कवियत्रियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। सुश्री मुक्ता मेहता,सुश्री दीपमाला, सुश्री ललिता वर्मा, सुश्री आभा चौहान, सुश्री रेणु श्रद्धा शर्मा, सुश्री ममता सिंह, सुश्री सीमा शर्मा, सुश्री चेतना अग्रवाल , सुश्री  जानकी पालीवाल, सुश्री प्रतिभा पुरोहित ,सुश्री कविता पंत,सुश्री कुमुद वर्मा, सुश्री मधु माहेश्वरी, डॉ.पुष्पलता शर्मा, डॉ. प्रणव भारती, सुश्री श्रद्धा रावल (अध्यक्ष राजकोट इकाई) , सुश्री धारा गोस्वामी (अध्यक्ष आंणद इकाई ) तथा  आमंत्रित कवि प्रमिला कौशिक , सुश्री मधु सोसि,व डॉ. रचना निगम !

डॉ.रचना निगम ने गोष्ठी में विभिन्न विषयों पर प्रस्तुत की गई रचनाओं की भूरी भूरी प्रशंसा करके सभी को प्रोत्साहित किया| काव्य गोष्ठी के शीर्षक को सार्थक करती रचनाओं ने वातावरण में उत्साह बनाए रखा। गोष्ठी के दूसरे पड़ाव में ‘सुश्री आभा चौहान के काव्य-संग्रह’सौहर्दिका’ का विमोचन हुआ जिसके बाद सुश्रीआभा चौहान को उनकी लेखन  यात्रा पर कुछ शब्द कहने का अनुरोध किया गया। आभा चौहान ने अपनी लेखन-यात्रा का सुंदर, भावभीना विवरण प्रस्तुत किया ।

डॉ.प्रणव भारती एवं  सुश्री मधु सोसिजी ने  पुस्तक पर अपने कुछ विचार प्रस्तुत करते हुए सुश्री आभा चौहान को बधाई व साधुवाद देकर उनके लेखन के उज्जवल भविष्य के लिए मंगलकामनाएं प्रदान कीं।  पटल पर सभी ने कवयित्री आभा चौहान को साधुवाद दिया ।  गोष्ठी के  समापन पर सुश्री कुमुद वर्मा द्वारा धन्यवाद ज्ञापन एवं स्वस्ति पाठ किया गया।   गोष्ठी का समापन अत्यंत सुखद वातावरण में हुआ।

प्रतिवेदन लेखन-सीमा शर्मा

error: Content is protected !!