नीरज पाठक हत्याकांड में पत्नी गिरफ्तार, पहले जहर दिया, फिर लगाया करंट …

छतरपुर। सिविल लाइन छतरपुर पुलिस ने शहर के चर्चित मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ नीरज पाठक हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया। पाठक की हत्या के मामले में पुलिस ने उनकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस पूछताछ में पत्नी ने बताया कि उसने एक वीडियो देखा था। जिसमें बताया था कि खाने में जहर देने के बाद यदि दो दिन तक शव को रखा रहने दिया जाए तो पोस्टमार्टम में जहर ट्रैस नहीं होता है। इसलिए 29 अप्रैल को पाठक को खाने में जहर देने के बाद दो दिन तक शव को रखे रहने दिया, इसके बाद पुलिस को सूचना दी। इसी वजह से पीएम में जहर से मौत होना नहीं बताया गया था।

नीरज पाठक हत्याकांड में पुलिस ने उनकी प्रोफ़ेसर पत्नी ममता पाठक को गिरफ्तार कर लिया है। पाठक की हत्या के बाद से ही उनकी पत्नी पर हत्या करने की शंका थी। पूरे घटनाक्रम की कड़िया सबूत थी कि पाठक को उनकी पत्नी ने ही मौत के घाट उतारा है। 7 मई को पुलिस ने ममता पाठक को हिरासत में ले लिया था। शनिवार को पुलिस ने अधिकृत तौर पर ममता पाठक की गिरफ्तार की पुष्टि कर दी है। ममता पाठक और उनके पति नीरज पाठक के बीच पिछले 11 साल से विवाद चल रहा था। वे दोनों अलग रहते थे। सितम्बर 2020 में ममता पाठक और उनका बेटा एक बार फिर नीरज पाठक के साथ उनके लोकनाथपुरम स्थित निवास पर रहने लगे थे।

ममता पाठक अपने पति के चरित्र पर संदेह करती थीं, इसी को लेकर पिछले 11 साल में दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ तीन बार पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। नीरज पाठक की मौत के पहले ममता पाठक ने उनके खिलाफ सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली थी, जिसमें नीरज पाठक पर उन्हें व उनके बेटे को जहरीला पदार्थ खिलाने का आरोप लगाया था। हत्याकांड के बाद रिश्तेदारों ने नीरज पाठक को कमरे में बंद कर प्रताड़ित करने, खाना न देने की बात पुलिस को बताई थी।

पुलिस ने नीरज पाठक हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी ममता पाठक ने स्वीकार किया है कि उसने नीरज पाठक के खाने में जहरीला पदार्थ मिलाया। खाना खाकर नीरज जब अपने कमरे में अचेत हो गया तो वह दो बार देखने गई कि मौत हुई कि नहीं। इसके बाद नीचे से बिजली का एक्सटेंशन बोर्ड लेकर उस कमरे में पहुंची जहां नीरज अचेत अवस्था में पड़े थे, उस बोर्ड से नीरज को करंट लगाया। नीरज की मौत होने के बाद वह अपने बेटे को लेकर झांसी गई। रास्ते में बेतवा नदी में वह एक्सटेंशन बोर्ड फेंक दिया।

error: Content is protected !!