Breaking News

कोरोना से बचने के लिए रोज पीता था 5 लीटर पानी, ICU में होना पड़ा भर्ती …

नई दिल्ली। पानी किसी भी जीवित प्राणी के अस्तित्व के लिए कितना जरूरी है, इसे बताने की जरूरत नहीं है लेकिन जैसे किसी भी चीज की अति बुरी होती है, यही बात पानी को लेकर भी लागू होती है। हाल ही में ऐसा ही देखने को मिला जब इंग्लैंड में एक शख्स के अत्यधिक पानी पीने के चलते बेहद गंभीर हालात हो गए थे।

34 साल के सिविल सर्वेंट ल्यूक विलियमसन इंग्लैंड के ब्रिस्टल शहर में अपने परिवार के साथ रहते हैं। ब्रिटेन में लगे पहले लॉकडाउन के समय ल्यूक को लगता था कि वे कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं और उन्हें लगा कि अगर वे अपनी पानी की मात्रा को डबल कर देंगे तो वे इस बीमारी को हराने में कामयाब होंगे।

आमतौर पर सामान्य इंसान को दिन में एक से दो लीटर पानी पीने की सलाह दी जाती है हालांकि ल्यूक ने अपनी पानी की मात्रा को बढ़ाते हुए इसे 4-5 लीटर कर दिया था जिसके चलते उनके शरीर में सोडियम का स्तर खतरनाक तरीके से कम हो गया था। यही वजह है कि ल्यूक एक दिन लड़खड़ा कर गिर पड़े।

ल्यूक की पत्नी ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि ‘वे शाम को नहाने गए थे और अचानक बाथरूम में लड़खड़ा कर गिर गए। चूंकि लॉकडाउन था तो मैं अपने किसी पड़ोसी की मदद भी नहीं ले पाई। मैंने एंबुलेस बुलाई तो वो 45 मिनटों बाद आई लेकिन इस एंबुलेस के आने के 20 मिनट पहले तक ल्यूक बेहोश पड़े थे और किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दे रहे थे जिसकी वजह से मुझे काफी स्ट्रेस हो रहा था।’

उन्होंने आगे कहा कि हालांकि जब हम आखिरकार  डॉक्टर्स के पास पहुंचे तो उन्होंने बताया कि वे कई दिनों से काफी ज्यादा पानी पी रहे हैं जिसके चलते उनके शरीर में सॉल्ट लेवल बहुत कम हो चुका था और इसी के चलते ल्यूक के हालात इतने बिगड़ गए थे। उन्हें दो-तीन दिनों तक आईसीयू में रखा गया। वे वेंटिलेटर पर थे। अस्पताल का स्टाफ काफी शानदार था। उन्होंने कुछ टेस्ट किए और उसके इलेक्ट्रोलाएट्स को सही किया। ल्यूक अब अपनी हेल्थ पर फोकस कर रहे हैं।

Check Also

मराठा आरक्षण और उस पर सरकार की परेशानी …

मुंबई (संदीप सोनवलकर) । महाराष्ट्र की उध्दव ठाकरे सरकार इन दिनों मराठा आरक्षण के सवाल …

error: Content is protected !!