मध्य प्रदेश

जो पत्थर अयोध्या में राम मंदिर में लगाए जा रहे, उन्हीं से संवारा गया है महाकाल लोक …

उज्जैन। जिन पत्थरों से अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है, उन्हीं पत्थरों से उज्जैन में ‘‘‘महाकाल लोक’’” संवारा गया है। यहां देश की सबसे बड़ी नक्काशी लाल पत्थरों पर की गई है। भगवान शिव सहित विभिन्ना देवी-देवताओं की फाइबर रेनफोर्स प्लास्टिक से बनीं सर्वाधिक मूर्तियां भी यहीं स्थापित हैं। 11 अक्टूबर के बाद इस लोक का सभी आम नागरिक इस न्यारे लोक का दर्शन कर पाएंगे। फिलहाल परिसर को शिव प्रिय पौधे रोपकर सजाया जा रहा है।

मालूम हो कि ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर के नवविस्तारित क्षेत्र ‘‘महाकाल लोक’’ का लोकार्पण 11 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करने आ रहे हैं। लोकार्पण के लिए परिसर सहित संपूर्ण उज्जैन शहर को सजाने की तैयारी की जा रही है। कहा गया है कि काशी विश्वनाथ परिसर से ‘‘महाकाल लोक’’ चार गुना बड़ा है। लोकार्पण समारोह में 50 हजार से अधिक लोगों के सम्मिलित होने की संभावना है।

इस लिहाज से कार्तिक मेला प्रांगण में विशाल मंच बनाया जा रहा है। ये वो मंच होगा जहां से प्रधानमंत्री देश-दुनिया को ‘‘महाकाल लोक’’ का महत्व बताएंगे। मध्य प्रदेश में मिशन-2023 का शुभारंभ करेंगे। ‘‘‘महाकाल लोक’’’ में राजस्थान के बंशी पहाड़पुर क्षेत्र के पत्थर पर नक्काशी कर शिल्प चित्र उकेरे गए हैं। यह वही पत्थर है, जो अयोध्या के राम मंदिर निर्माण में लगाया जा रहा है।

नक्काशी 500 मीटर से अधिक लंबी और 25 फीट ऊंची दीवार पर की गई है। इसी दीवार पर शिव महापुराण में लिखित घटनाओं को शिल्प चित्र के माध्यम से उकेरा गया है। जानकारों का कहना है कि ये नक्काशी देश की सबसे बड़ी नक्काशी है। इसे तैयार करने में ओडिसा, गुजरात और राजस्थान के कलाकारों ने काम किया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 11 अक्टूबर को शाम 6 बजे हेलिकाप्टर से उज्जैन आएंगे। वे हेलीपेड से सीधे महाकाल मंदिर जाकर पूजन-अर्चन करेंगे। तत्पश्चात ‘‘महाकाल लोक’’ का लोकार्पण कर इसका मुआयना करेंगे। लगभग सात बजे कार्तिक मेला ग्राउंड पर रखी सभा को संबोधित करेंगे। ये सभा रात आठ बजे तक चल सकती है। सभा के बाद पद्मश्री कैलाश खैर के शिव भजनों की प्रस्तुति होगी। लोकार्पण समारोह में आने के लिए भाजपा नेता एवं कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को पीले चावल और पाती देकर निमंत्रित करेंगे।  समारोह वाले दिन हर शिवालय में विशेष पूजन, सार्वजनिक स्थलों पर रंगोली एवं प्रत्येक घर-प्रतिष्ठान में आकर्षक लाइट, दीप प्रज्वलित कराने की तैयारी की जा रही है।

उज्जैजन में ‘महाकाल लोक’ के लोकार्पण के पहले मुख्यतमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश वासियों को आत्मीजय संदेश दिया है। शिवराज ने कहा कि अगर आप उज्जैन न आ सकें तो अपने गांव के मंदिर में दीपक जलाएं, साज सज्जा करें। वहां भजन, कीर्तन, पूजन हों, अभिषेक और आरती हो, फिर सारा गांव अपने मंदिर के प्रांगण में बैठकर श्री ‘महाकाल लोक’ के लोकार्पण का कार्यक्रम देखे। उन्होंंने कहा- द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक श्री महाकाल महाराज उज्जैन में विराजमान हैं। मध्यप्रदेश और देश पर सदैव उनकी कृपा बरसती है। महाकाल महाराज की इच्छा से ही उनके परिसर का विस्तार शिव लीलाओं के साथ किया गया है। वहां एक अद्भुत रचना हुई है, जिसका नाम श्री ‘महाकाल लोक’ रखा गया है। यह भारत के सांस्कृतिक पुनरुत्थान का युग है। शिवराज ने कहा कि पहले केदारनाथ जी, फिर काशी विश्वनाथ जी, अब श्री ‘महाकाल लोक’ का प्रधानमंत्री नरेन्द्र  मोदी के हाथों से लोकार्पण होगा। आप सब आमंत्रित हैं। मेरी आप से अपील है कि इस पल के साक्षी बनें।

Related Articles

Back to top button