नई दिल्ली

रूस जांच करेगा यूक्रेन में भारतीय छात्र की मौत की, भारतीयों की सुरक्षित निकासी के लिए बना रहा ‘मानवीय गलियारा’ …

नई दिल्ली। मंगलवार को 21 वर्षीय मेडिकल छात्र नवीन शेखरप्पा की मौत के बाद पूर्वी यूक्रेन में खारकीव, सुमी और अन्य संघर्ष क्षेत्रों में फंसे 4,000 भारतीयों को निकालना भारत सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता बन गई है। भारत ने वायुसेना को भी ऑपरेशन गंगा के तहत भारतीयों को निकालने के मिशन पर लगाया है।

रूस ने कहा है कि वह यूक्रेन में गोलाबारी में मारे गए भारतीय छात्रा की मौत की जांच करेगा। भारत में रूसी राजदूत नामित डेनिस अलीपोव ने बुधवार को ये जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रूस पूर्वी यूक्रेन में संघर्ष क्षेत्रों में फंसे भारतीय नागरिकों की सुरक्षित निकासी के लिए “मानवीय गलियारा” बनाने के लिए काम कर रहा है और खारकीव में एक भारतीय छात्र की मौत की जांच करेगा।

अलीपोव ने एक वर्चुअल ब्रीफिंग में बताया कि रूसी पक्ष को उम्मीद है कि मानवीय गलियारों को “जितनी जल्दी हो सके” बनाया जाए ताकि इन संघर्ष क्षेत्रों में फंसे भारतीयों को रूसी क्षेत्र में ले जाया जा सके। उन्होंने कहा कि रूसी पक्ष यूक्रेन में सैन्य अभियानों को जल्द से जल्द रोकने का इरादा रखता है क्योंकि स्थिति दोनों देशों के लिए एक “त्रासदी” है।

अलीपोव ने भारतीय छात्र की मृत्यु पर अपनी “गहरी संवेदना” व्यक्त की और छात्र के परिवार और भारतीय राष्ट्र के प्रति अपनी सहानुभूति व्यक्त की। उन्होंने कहा, “रूस संघर्ष क्षेत्रों में भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कोशिश करेगा।” उन्होंने कहा कि भारतीय छात्र की मौत की जांच की जाएगी।

अलीपोव ने कहा कि रुस भारतीय छात्रों की सुरक्षा के लिए हर कदम उठाएगा। उन्होंने कहा, “रूस नागरिकों पर हमला नहीं करता है। इस मामले की जांच की जाएगी। हम पर आरोप लगाना आसान है। ये रूस को बदनाम करने की कोशिश हो सकती है।”

रूसी पक्ष फंसे हुए भारतीय नागरिकों की सुरक्षा और संयुक्त राष्ट्र में भारत के साथ संपर्क में भी है और समन्वय कर रहा है। उन्होंने कहा, “हम खार्किव, सुमी और [अन्य] क्षेत्रों में भारत के नागरिकों के संबंध में भारतीय अधिकारियों के संपर्क में हैं।”

अलीपोव ने कहा कि रूस को संघर्ष क्षेत्रों में फंसे भारतीयों को रूसी क्षेत्र में आपातकालीन निकासी के लिए भारत की ओर से अनुरोध प्राप्त हुए हैं, और अधिकारी मानवीय गलियारों को खोलने के लिए इस तरह के एक अभियान को शुरू करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं।

अलीपोव ने यूक्रेन की स्थिति पर हाल की बैठकों के दौरान संयुक्त राष्ट्र में देश द्वारा अपनाई गई “निष्पक्ष” और “संतुलित” स्थिति के लिए भारत को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, “हम भारत के साथ रणनीतिक सहयोगी हैं, हम संयुक्त राष्ट्र में भारत की संतुलित स्थिति के लिए बहुत आभारी हैं … और हमें उम्मीद है कि यह जारी रहेगा।”

Related Articles

Back to top button