Breaking News

बंगाल में दीदी पर जनता ने लुटाई ‘ममता’, जानें- क्या बोले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर …

कोलकाता । बंगाल चुनाव के रुझानों में टीएमसी की डबल सेंचुरी के बाद चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है। चुनाव आयोग ने बीजेपी के 80 के करीब सीटों पर ही सिमटने को लेकर कहा कि उन्हें इस बात का अंदाजा था। इसके साथ ही पीके ने चुनाव आयोग पर भी निशाना साधते हुए पक्षपात का आरोप लगाया है। प्रशांत किशोर ने कहा, ‘चुनाव आयोग की ओर से पक्षपात के चलते बीजेपी ऐसी स्थिति में आ सकी है। यदि आयोग ने निष्पक्षता के साथ काम किया होता तो ऐसा नहीं होता। आयोग ने अपने सिस्टम के जरिए बीजेपी को सपोर्ट करने का काम किया था। उसके चलते ही चुनाव ज्यादा से ज्यादा चरणों में कराया गया था। यह चुनाव 10 या 15 दिनों ही कराया जा सकता था, लेकिन दो महीने का समय लिया गया।

File Photo

प्रशांत किशोर ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि राज्य में ध्रुवीकरण के मुद्दे काम नहीं किए हैं। इससे साफ है कि ध्रुवीकरण की सीमा है और पता चलता है कि आखिर बीजेपी के खेमे में कितने वोट जा सकते हैं। साफ है कि आप सिर्फ ध्रुवीकरण के भरोसे ही नहीं जीत सकता।’ प्रशांत किशोर ने कहा कि ममता बनर्जी पर मुस्लिमों से एकजुट होकर मतदान की अपील करने पर नोटिस मिला था। यदि ऐसा ही है तो फिर बीजेपी के हर नेता को नोटिस मिलना चाहिए था। दीदी की जमकर तारीफ करते हुए ने कहा कि ममता बनर्जी के साथ काम करना मेरे लिए खुशी की बात है। प्रशांत किशोर ने कहा कि राजनीतिक दलों को चुनाव आयोग की इस तरह की हरकत के खिलाफ एकजुट होना चाहिए।

नंदीग्राम में ममता बनर्जी के पिछड़ने को लेकर भी पीके ने टिप्पणी की है। नंदीग्राम में ममता बनर्जी के पिछड़ने को लेकर प्रशांत किशोर ने कहा कि इस बात पर कोई संदेह नहीं है कि वे जीतेंगी। प्रशांत किशोर ने कहा कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी ने गलत प्रोपेगेंडा फैलाया था, जिसका उसे खामियाजा भुगतना पड़ा था। उन्होंने टीएमसी ने 2019 के बाद लोगों के सामने पैदा हुए संकट को मुद्दा बनाया था।

कांग्रेस के सफाये को लेकर पूछे जाने पर प्रशांत किशोर ने कहा कि मैं इस संबंध टिप्पणी नहीं कर सकता। इस मामले में मैं काफी छोटा हूं। उन्होंने कहा कि इस पर तो कांग्रेस की ओर से ही जवाब दिया जा सकता है। हालांकि पीके ने कहा कि हम यह नहीं कह सकते हैं कि हमारे साथ मीडिया नहीं है। संसाधन नहीं है, इसलिए नहीं जीत सकते। एक राजनीतिक दल के तौर पर आपको दम के साथ आगे बढ़ना ही पड़ता है।

मालूम हो कि बीजेपी के स्टार प्रचारक और भारत के प्रधानमंत्री इस चुनाव में अपनी पूरी ताकत एक महिला को हराने के लिए झोंक दिया था। सभा में प्रधानमंत्री “दीदी ओ दीदी” के नारे लगाते और वहां उपस्थित दर्शकों में वीरानी छा जाती। यह देख लोग ऐसा कहने वाले पर हंसते थे। सोनार बांगला का द्विस्वप्न लोगों में काम नहीं कर पाया और वे वोटरों ने भाजपा को बाहर का रास्ता दिखा दिया। कोलकाता सहित भारत में महिला को देवी की तरह पूजा जाता है। उसी बंगाल में एक महिला को घेरने के लिए बड़ी-बड़ी पार्टी अपने योद्धाओं को लेकर उतरीं थी, जिनसे अकेली महिला ने जिस तरह लड़ाई लड़ी है वह इतिहास में स्वर्ण अक्षरों से लिखा जाएगा। और चुनावी रण में महिला पर उंगली उठाने वाले बाहूबलियों से सवाल पूछे जाएंगे।

Check Also

मराठा आरक्षण और उस पर सरकार की परेशानी …

मुंबई (संदीप सोनवलकर) । महाराष्ट्र की उध्दव ठाकरे सरकार इन दिनों मराठा आरक्षण के सवाल …

error: Content is protected !!