मध्य प्रदेश

खंडवा सांसद अचानक पहुंचे गांव, अपने हाथों से समर्थक को पहनाए जूते ….

बुरहानपुर। नेपानगर के सातपायरी नावथा टंकी क्षेत्र के गांव में अचानक एक कार पहुंचती है. चमचमाती कार देखकर ग्रामीणों की भीड़ जुटने लगी. कार पहुंचने के बाद का दृश्य देखकर सभी ताली बजाने से खुद को नहीं रोक पाए. कार से उतरकर सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल अपने एक प्रशंसक के घर पहुंचे और ज़मीन पर बैठकर अपने हाथों से उसे नये जूते पहनाए. सांसद ने एक कार्यकर्ता का जिस तरह मान बढ़ाया, उसे देखकर पूरा गांव दाद देने पर मजबूर हो गया.

इससे पहले सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल ने इस समर्थक को माला पहनाकर सत्कार भी किया और पार्टी के प्रति उसकी निष्ठा की तारीफ भी की. सांसद ने कहा जैसे ही उन्होंने अपने समर्थक की प्रतिज्ञा के बारे में सुना, वह खुद को ऐसा करने से रोक नहीं पाए. इस दृश्य के पीछे एक दिलचस्प कहानी सामने आई.  दरअसल, भाजपा कार्यकर्ता मुन्ना ने खंडवा लोकसभा उपचुनाव के दौरान प्रतिज्ञा ली थी कि जब तक भाजपा प्रत्याशी ज्ञानेश्वर पाटील चुनाव जीत नहीं जाएंगे, तब तक वह पैरों में चप्पल, जूते नहीं पहनेंगे. साथ ही उन्होंने यह भी कसम खाई थी कि सांसद के हाथों से ही जूते पहनेंगे. तब से मुन्ना नंगे पैर रहने लगे थे. खेतों के कामकाज करना हो, कहीं भी आना-जाना हो उन्होंने बिना चप्पल जूतों के ही लंबा समय बिताया.

पाटील की जीत के बाद भी मुन्ना नंगे पैर ही घूमते रहे. ज्ञानेश्वर पाटिल चुनाव जीत गए, उसकी मन्नत पूरी हो गई, लेकिन फिर भी उसने जूते-चप्पल नहीं पहने. एक दिन सरपंच ने उसे नंगे पैर देखा तो पूछा, लेकिन उसने टाल दिया और अपने संकल्प के बारे में कुछ नहीं बताया. कुछ दिन बाद जब मुन्ना के परिवार वालों से सरपंच को मुन्ना के संकल्प के बारे में पता चला तो वह दंग रह गए. उन्होंने इसकी जानकारी पाटील को दी. सांसद को यह बात पता लगने पर उन्होंने मार्केट से नए जूते खरीदे और अपनी कार से मुन्ना के गांव पहुंचे. उसके बाद सबने देखा कि निष्ठा का सम्मान कैसे हुआ.

मुन्ना के सम्मान के बाद पाटिल ने कहा कि पार्टी के प्रति कार्यकर्ता की इस प्रतिज्ञा और त्याग को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता. मुझे जैसे ही इसकी जानकारी लगी तो खुद को रोक नहीं पाया और यहां चला आया. मैं पार्टी के प्रति मुन्ना की निष्ठा और समर्पण को सलाम करता हूं.’ सांसद को अचानक अपने बीच पाकर ग्रामीणों ने सांसद को अपनी समस्याएं भी बताईं, सांसद ने ग्रामीणों को उनकी समस्याओं का शीघ्र निराकरण कराने का भरोसा दिलाया और बुरहानपुर के लिए वापस रवाना हो गए.

Related Articles

Back to top button