मध्य प्रदेश

रतलाम में प्रशासन कर रहा भूमाफियाओं पर कार्रवाई की तैयारी, कलेक्टर ने टीएनसीपी दफ्तर पर मारी रेड, मचा हड़कंप …

भोपाल/रतलाम. मध्य प्रदेश के रतलाम के टीएनसीपी कार्यालय में अचानक उस समय हड़कंप मच गया, जब कलेक्टर नरेन्द्र सूर्यवंशी प्रशासनिक टीम के साथ अचानक वहां पहुंचे. कलेक्टर एवं प्रशासनिक अमले  देख कार्यालय में अधिकारी व कर्मचारी भौचक रह गए. कार्यालय में पड़ी अस्त-व्यस्त फाइलों को देखकर कलेक्टर ने अधिकारियों व कर्मचारियों को लताड़ लगाई. निरीक्षण के बाद कलेक्टर कुछ फाइलें अपने साथ ले गए.

करीब सवा घंटे तक कलेक्टर ने कार्यालय में अलग-अलग स्थानों पर पड़ी फाइलों को देखा. उनमें से कलेक्टर अपने साथ 4 बस्तों में 50 से अधिक फाइलें लेकर चले गए. प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार कलेक्टर सूर्यवंशी को टीएनसीपी कार्यालय की काफी समय से शिकायतें मिल रही थीं. दोपहर करीब 4 बजे कलेक्टर सूर्यवंशी एसडीएम संजीव केशव पांडे और राजस्व विभाग के कर्मचारियों की टीम के साथ पहुंचे. कलेक्टर जब कार्यालय पहुंचे, तब विभाग के उपसंचालक जीएल वर्मा मौजूद नही थे, जिन्हें बुलाया गया. कलेक्टर ने एक-एक फाइल व अलमारी को बड़ी गम्भीरता से टटोला.

कलेक्टर अपने साथ एक सूची भी लाये थे. सूची में कुछ बड़े डेवलपर्स के नाम थे, जिनकी फाइलें मंगवाई गई. कलेक्टर ने 2017 के बाद के परमीशन रजिस्टर को भी चेक किया और शहर सहित आसपास के अन्य क्षेत्रों में दी गई अनुमति को जांचा. इनमें रतलाम सहित जावरा व अन्य क्षेत्रों में बनी कॉलोनियों की जानकारी थी. कलेक्टर ने करीब सवा घन्टे तक कार्यालय में रखी कॉलोनियों की एक-एक फाइल देखीं. उन्हीं फाइलों में से दस्तावेज निकाले गए. वे 4 बस्तों में 50 से अधिक कॉलोनियों की फाइल व दस्तावेज अपने साथ ले गए। बताया जाता है कि जो सूची कलेक्टर अपने साथ लेकर आये थे, उनमें कई नाम नियम विपरीत अनुमतियां देने वाले थे. इस संबंध में कलेक्टर सूर्यवंशी ने बताया कि आकस्मिक निरीक्षण था। दस्तावेज व फाइलें लेकर जा रहे हैं। इनका परीक्षण करने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

Related Articles

Back to top button