मध्य प्रदेश

काशी विश्वनाथ से भी बड़े महाकाल कॉरिडोर का लोकार्पण, 17 सितंबर को चीता प्रोजेक्ट का शुभारंभ करने के बाद पीएम अक्टूबर में फिर आएंगे मध्यप्रदेश ….

धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर के अनुसार पीएम मोदी अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में उज्जैन आएंगे। वे महाकालेश्वर मंदिर के गर्भगृह में दर्शन करेंगे। वहीं महाकाल परिसर विस्तारीकरण के तहत फेज-1 में बनकर तैयार हुए महाकाल कॉरिडोर, रुद्र सागर और विकास प्राधिकरण के यात्री सुविधा केंद्र का लोकार्पण करेंगे। उज्जैन के कालिदास अकादमी में समारोह की बैठक में पहुंची मंत्री उषा ठाकुर ने बताया कि पीएम मोदी अक्टूबर में शरद पूर्णिमा के दिन उज्जैन आ सकते हैं। इससे पहले पीएम मोदी जून में आने वाले थे। तब निकाय और पंचायत चुनावों को लेकर आचार संहिता लग गई थी। इस वजह से यह कार्यक्रम निरस्त हो गया था। हालांकि, यह भी बताया गया था कि महाकाल कॉरिडोर का कुछ काम फिलहाल बाकी है।

काशी विश्वनाथ मंदिर से 4 गुना बड़ा बन रहा महाकाल कॉरिडोर

काशी विश्वनाथ मंदिर से चार गुना बड़ा बन रहा महाकाल कॉरिडोर अपने आप में बेहद खास है। प्रोजेक्ट इंजीनियर विकास पटेल बताते हैं कि परिसर इतना विशाल है कि पूरा मंदिर परिसर में घूमने और सूक्ष्मता से दर्शन करने के लिए 5 से 6 घंटे का वक्त लगेगा। इस विशाल महाकाल कॉरिडोर क्षेत्र में भगवान शिव के 190 अलग-अलग रूप के दर्शन होंगे। इसके अतिरिक्त शिव तांडव स्त्रोत से लेकर शिव विवाह और अन्य प्रसंगों को भी बड़ी खूबसूरती से तराशा गया है। इसमें महाकालेश्वर वाटिका, महाकालेश्वर मार्ग, शिव अवतार वाटिका, प्रवचन हॉल, नूतन स्कूल परिसर, गणेश विद्यालय परिसर, रूद्रसागर तट विकास, अर्ध पथ क्षेत्र, धर्मशाला और पार्किंग सुविधाएं शामिल हैं। इन सुविधाओं का भव्य रूप से विकास किया जा रहा है।

एक साथ 20 हजार और एक घंटे में एक लाख श्रद्धालु करेंगे दर्शन

उज्जैन के कलेक्टर आशीष सिंह के अनुसार प्रोजेक्ट पूरा होने पर हर घंटे एक लाख श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। एक लाख लोगों की भीड़ होने पर भी श्रद्धालुओं को 30 से 45 मिनट में दर्शन हो जाएंगे। इसके लिए मंदिर को चारों तरफ से खुला बनाया जा रहा है। इसके आसपास के भवन को हटाया जा रहा है। क्योंकि श्रद्धालु लोग दूर से मंदिर के दर्शन कर सकें। इसी के साथ रूद्रसागर के किनारे 2 नए द्वार नंदी द्वार व पिनाकी द्वार के मध्य में विकसित किया जा रहा है। इससे एक साथ 20 हजार यात्री का आवागमन एक साथ हो सकेगा। 400 से ज्यादा वाहनों का पार्किंग क्षेत्र और धर्मशाला से यात्री सीधे नंदी द्वार में प्रवेश करेंगे।

आकर्षक फाउंटेन, लाइट एंड साउंड शो भी होगा

त्रिवेणी संग्रहालय के पास ही महाकाल पथ का बड़ा द्वार बन रहा है और बीच में फाउंटेन, लाइट एंड साउंड सिस्टम भी होगा। इसके सामने पवेलियन जैसी व्यवस्था श्रद्धालुओं के लिए की जाएगी। जहां रात के समय श्रद्धालु लाइट एंड साउंड शो के जरिए महाकाल के बारे में और अधिक जानकारी पा सकेंगे। महाकाल कॉरिडोर का काम लगभग समाप्ति पर है। कई स्थानों पर फिनिशिंग का काम चल रहा है। जून 2022 तक महाकाल कॉरिडोर श्रद्धालुओं के लिए पूरी तरह खोल दिया जाएगा।

Related Articles

Back to top button