Breaking News
.

2 नवंबर को मनाया जाएगा धनतेरस, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त, विधि और महत्व…

नई दिल्ली। धनतेरस का त्योहार व्यापारी वर्ग के लिए काफी महत्वपूर्ण होता हैं। साल इस त्योहार का इंतजार करते हैं। हिन्दू धर्म में धनतेरस और दीवाली को सबसे बड़ा त्योहार माना जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है। इस साल धनतेरस 2 नवंबर को मनाया जाएगा।

 

 

क्यों मनाया जाता है धनतेरस

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जब प्रभु धन्वंतरि प्रकट हुए थे तब उनके हाथ में अमृत से भरा कलश था. इस दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा करना शुभ माना जाता है. धनतेरस को धन्वंतरि जयंती या धन त्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन बर्तन और गहनों की खरीदारी करना बेहद शुभ माना जाता है.

 

 

महालक्ष्मी की पूजा

ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन धन्वंतरि देव और मां लक्ष्मी की पूजा करने से जीवन में धन की कमी नहीं रहती है. इस दिन भगवान कुबेर की पूजा का भी विधान है.

 

 

 

2021 शुभ मुहूर्त

धनतेरस तिथि 2021- 2 नवंबर, मंगलवार.

धन त्रयोदशी पूजा का शुभ मुहूर्त- शाम 5 बजकर 25 मिनट से शाम 6 बजे तक.

प्रदोष काल- शाम 05:39 से 20:14 बजे तक.

वृषभ काल- शाम 06:51 से 20:47 तक.

 

 

धनतेरस की पूजा विधि

  1. सबसे पहले चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं.
  2. अब गंगाजल छिड़ककर भगवान धन्वंतरि, माता लक्ष्मी और भगवान कुबेर की प्रतिमा या फोटो स्थापित करें.
  3. भगवान के सामने देसी घी का दीपक, धूप और अगरबत्ती जलाएं.
  4. अब देवी-देवताओं को लाल फूल अर्पित करें.
  5. अब आपने इस दिन जिस भी धातु, बर्तन या ज्वेलरी की खरीदारी की है, उसे चौकी पर रखें.
  6. लक्ष्मी स्तोत्र, लक्ष्मी चालीसा, लक्ष्मी यंत्र, कुबेर यंत्र और कुबेर स्तोत्र का पाठ करें.
  7. धनतेरस की पूजा के दौरान मां लक्ष्मी के मंत्रों का जाप करें और मिठाई का भोग भी लगाएं.
error: Content is protected !!