देश

महाराष्ट्र में सत्ता के साथ शरद पवार के दावे- वादे सब हुए फेल, अब गढ़ पर गहराया संकट ….

मुंबई। जून के अंतिम 10 दिनों में महाविकास अघाड़ी के हाथों से महाराष्ट्र की सत्ता चली गई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार की भूमिका पर भी सभी की नजरें थी, लेकिन गुरुवार को शिंदे की मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ के साथ ही इस उम्मीद का भी अंत हो गया। हालात ऐसे बिगड़े कि सत्ता जाते ही आयकर विभाग का नोटिस भी आ गया और अब शिंदे के सहारे भारतीय जनता पार्टी की नजरें राकंपा प्रमुख के गढ़ सतारा पर भी टिक गई हैं। पवार के दावों से लेकर वादे तक सभी असफल साबित हुए।

मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से बताया गया कि ठाकरे इससे पहले भी दो बार इस्तीफा देने का मन बना चुके थे, लेकिन पवार ने उन्हें ऐसा नहीं करने के लिए मना लिया। रिपोर्ट के अनुसार, एक नेता ने बताया, ‘पवार ने उन्हें रुकने और जल्दबाजी में कोई भी फैसला नहीं लेने के लिए कहा। यह भी बताया गया कि महाविकास अघाड़ी भाजपा के खिलाफ मिलकर लड़ेगी।’

23 जून, गुरुवार को पवार ने मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जहां अपने ‘अनुभव’ के आधार पर संकट से उबरने का भरोसा जताया। उन्होंने कहा था, ‘MVA ने सीएम उद्धव ठाकरे का समर्थन करने का फैसला किया है। मुझे भरोसा है कि एक बार विधायक मुंबई लौट आएंगे, तो हालात बदल जाएंगे।’ उन्होंने कहा था, ‘हमने महाराष्ट्र में ऐसे हालत कई बार देखें हैं। मेरे अनुभव से मैं यह कह सकता हूं कि हम इस संकट को हरा देंगे और उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में यह सरकार आराम से चलेगी।’

26 जून, रविवार को भी पवार ने कहा कि हम अंत समय तक ठाकरे का समर्थन करेंगे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि बागी विधायकों के नए गठबंधन की कोई खास महत्व नहीं है। शुरुआत में संकट को शिवसेना का आंतरिक मामला बताने वाले पवार लगातार एनसीपी की बैठकें करते रहे। खबरें आई थी कि उन्होंने दिल्ली का दौरा भी किया है।

सत्ता परिवर्तन के अगले ही दिन पवार के पास आयकर विभाग का नोटिस पहुंच गया। साल 2004, 2009, 2014 और 2020 में चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामों की जांच के बाद नोटिस जारी किए गए। हालांकि, राकंपा प्रमुख ने इसे ‘लव लैटर’ बताया है। उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना भी साधा और कहा कि एजेंसी कुछ ही लोगों की जानकारी जुटा रही है।

साल 2014 के बाद से राज्य में सीएम पद के लिए भाजपा ने ब्राह्मण चेहरे यानी मौजूदा उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को तवज्जो दी। लेकिन अब पार्टी ने शिवसैनिक और मराठा शिंदे को बड़ा पद दिया है। खास बात है कि इसके साथ ही पार्टी की नजर में 32 फीसदी मराठा वोट भी हैं। खास बात यह भी है कि शिंदे पश्चिम महाराष्ट्र के सतारा से आते हैं और यह पवार का घरेलू मैदान है और इसे वरिष्ठ नेता का गढ़ भी माना जा सकता है।

Related Articles

Back to top button