मध्य प्रदेश

एमपी में फिर दलबदल को लेकर चल रही चर्चाएं! कमलनाथ के दावे पर नरोत्तम ने कहा- राहुल और कमलनाथ ने कांग्रेस को निपटाने की सुपारी ली …

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक बार फिर दलबदल की चर्चाएं तेज हो गई हैं।  कांग्रेस और बीजेपी के नेता जिस तरह से बयानबाजी कर रहे हैं, उससे प्रदेश के सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा तेज हो गई है कि क्या फिर से मध्य प्रदेश में दलबदल होने वाला है। क्योंकि 2018 के विधानसभा चुनाव के बाद प्रदेश में बड़े स्तर पर दलबदल की सियासत हो चुकी है। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि इस वक्त बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां नेताओं को अपने पाले में लाने की तैयारियों में जुटी हैं। ऐसे में आने वाले वक्त में मध्य प्रदेश में दलबदल की सियासत से इनकार नहीं किया जा सकता।

मध्य प्रदेश में एक बार फिर दलबदल होने की चर्चाएं तेज होती जा रही हैं. बीजेपी और कांग्रेस के दिग्गज नेताओं के बयान भी इसी ओर इशारा कर रहे हैं। दरअसल, प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा है कि उनके संपर्क में बीजेपी के कुछ विधायक हैं, लेकिन वह अपने संगठन के नेताओं को ही टिकट देंगे। वहीं, कमलनाथ के इस बयान पर मंत्री भूपेंद्र सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस के कुछ और विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं और वह हमारी पार्टी में शामिल होना चाहते हैं। इसके साथ ही इस मामले में अब प्रदेश के कद्दावर बीजेपी नेता और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी सामने आ गए हैं। मिश्रा ने मामले में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और कमलनाथ ने कांग्रेस को निपटाने की सुपारी ले ली है।

नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ के दावे को लेकर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि ‘कमलनाथ जब-जब ऐसा बोलते हैं, तब-तब कांग्रेस टूट जाती है। कमलनाथ ने जब  पहली बार ऐसा दावा किया तो उनकी सरकार चली गयी। फिर उपचुनाव के समय में ऐसा बोला तो पूरी पार्टी बैठ गई। यही नहीं, राष्ट्रपति चुनाव के दौरान उन्होंने फिर बोला तो उनकी कांग्रेस पार्टी के 17 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग कर दी। इसलिए ऐसा लगता है कि राहुल गांधी और कमलनाथ ने कांग्रेस की सुपारी ली ली है और ये कांग्रेस को निपटाकर ही मानेंगे। इसके लिए हमें कुछ करने की जरूरत ही नहीं है। श्री मिश्रा ने कहा कि विधायकों को तोड़ने की शुरुआत कमलनाथ ने ही की थी, इसलिए राहुल गांधी और कमलनाथ कांग्रेस पार्टी को खत्म करने के अभियान में लगे हुए हैं।

नरोत्तम मिश्रा ने राहुल गांधी के गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रचार करने के सवाल पर कहा कि गुजरात में भाजपा की दो तिहाई बहुमत से जीत निश्चित थी। अब राहुल गांधी के गुजरात चुनाव में प्रचार करते ही और ज्यादा सीटें जीतना सुनिश्चित हो जाएगा। गृहमंत्री ने कहा कि आज कांग्रेस जनजातीय गौरव दिवस पर राजनीति कर रही है, जबकि अब तक कांग्रेस जनजातीय वोटों से ही जीती थी। कांग्रेस ने राष्ट्रपति का भी विरोध किया था, कांग्रेस किसी काम का समर्थन नहीं करती, वह केवल हर बात का विरोध करती है। यही कारण है कि 20 साल में कांग्रेस को हमसे ज्यादा वोट नहीं मिले। कांग्रेस के विरोध से कुछ नहीं होने वाला, आज राष्ट्रपति के स्वागत के लिए पूरा प्रदेश तैयार है।

उल्लेखनीय है कि एक दिन पहले छिंदवाड़ा में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने दावा किया था, बीजेपी के कुछ विधायक उनके संपर्क में हैं, क्योंकि इन विधायकों को लगता है कि उनकी पार्टी उन्हें आने वाले विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं देगी। इसलिए वह कांग्रेस से संपर्क कर रहे हैं, लेकिन कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं को ही टिकट देगी। कमलनाथ ने पहले भी ऐसा ही दावा किया था। जबकि नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने भी बीजेपी विधायकों के कांग्रेस के संपर्क में होने का दावा किया था।

Related Articles

Back to top button