मध्य प्रदेश

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए कमल नाथ का नाम चर्चाओं में ….

भोपाल। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए इन दिनों कमल नाथ का नाम चर्चाओं में है। अपना नाम चर्चा में आने पर कमल नाथ ने कहा कि मेरी इसमें रुचि नहीं है। मैं मध्य प्रदेश में ही रहूंगा। वे इसके पहले भी कई बार स्पष्ट कर चुके हैं कि वे मध्य प्रदेश में रहेंगे। इधर, उन्होंने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां तेज कर दी हैं।

इस संबंध में गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में सभी विधायक, जिला प्रभारी, जिला अध्यक्ष और शहर अध्यक्षों की बैठक बुलाई। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, डॉ. गोविंद सिंह, कांतिलाल भूरिया, सुरेश पचौरी, अरुण यादव, अजय सिंह सहित वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया।

आगामी विधानसभा चुनाव में जिला प्रभारियों की भूमिका महत्वपूर्ण रहेगी। प्रदेश कांग्रेस इन्हें ताकतवर बनाने का काम कर रही है। जिला और शहर अध्यक्षों के साथ-साथ प्रत्याशी चयन में इनकी भूमिका रहेगी। जिले में जातिगत समीकरण को ध्यान में रखकर कार्यक्रम बनाने, सहयोगी संगठनों के बीच समन्वय बनाकर संगठन की गतिविधियों को बढ़ावा देने का काम भी प्रभारी देखेंगे।

बैठक में प्रभारियों की भूमिका, इनके दायित्व और पार्टी की अपेक्षा के बारे में चर्चा की जाएगी। इसके साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव के लिए संगठन को तैयार करने के लिए मतदान केंद्र स्तर पर गतिविधियां बढ़ाने की कार्ययोजना बनाई जाएगी।

कांग्रेस की इस बैठक से पूर्व मीडिया से चर्चा में पूर्व सीएम और पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि हमारा मुकाबला भाजपा के नेताओं से नहीं बल्कि उनके संगठन से है। इसके लिए कांग्रेस संगठन को हमें मजबूत बनाना होगा। इसमें ऐसे लोगों को महत्वपूर्ण भूमिका दी जाएगी, जो पूरा समय पार्टी को दे सकें। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में दो सौ से पौने तीन सौ तक मतदान केंद्र होते हैं।

एक अकेला जिला अध्यक्ष चार-छह विधानसभा क्षेत्रों को नहीं देख सकता है, इसलिए प्रभारी नियुक्त किए गए हैं। ये अपना समय जिले में संगठन को मजबूत बनाने के लिए देंगे। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, सुरेश पचौरी, कांतिलाल भूरिया, अरुण यादव, नेता प्रतिपक्ष डा.गोविंद सिंह, अजय सिंह सहित अन्य पदाधिकारी हिस्सा ले रहे हैं।

मुरैना के अध्यक्ष राकेश मावई के जिला अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर उन्होंने कहा कि विधायकों ने चार-पांच माह पूर्व आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी के मद्देनजर संगठन के दायित्वों से मुक्त करने की इच्छा जताई थी। कुछ विधायकों ने जिला अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। इनके स्थान पर नए अध्यक्ष नियुक्त किए जाएंगे।

बैठक में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की तैयारियों पर भी चर्चा की गई। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह यात्रा के संबंध में पदाधिकारियों को जानकारी दी। प्रदेश में यात्रा सात जिलों से गुजरेगी। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी उज्जैन में महाकाल दर्शन के बाद रैली को भी संबोधित करेंगे।

Related Articles

Back to top button