जोगी कांग्रेस ने लिया निर्णय, भाजपा को देंगे समर्थन : धर्मजीत सिंह व अमित जोगी की भूमिका महत्वपूर्ण …

पेंड्रा। आखिर जोगी कांग्रेस ने भाजपा को समर्थन देने का निर्णय ले लिया है। समर्थन के मुद्दे पर विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह की पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से बातचीत हुई। फिर आज अधिकारिक रुप से अमित जोगी ने एक बयान जारी कर कहा कि जोगी कांग्रेस के सभी लोग मरवाही उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी डॉ. गंभीर सिंह को समर्थन देंगे। इस निर्णय के बाद आज से ही जोगी कांग्रेस के लोग भाजपा प्रत्याशी के लिए वोट मांगने निकल गए।

मरवाही विधानसभा उपचुनाव से जोगी कांग्रेस का नामांकन निरस्त होने के बाद यह माना जा रहा था कि जोगी कांग्रेस के पास भाजपा को समर्थन देना ही एक मात्र विकल्प होगा। कई दौर के बातचीत के बाद आखिर पार्टी के नेता इसी निर्णय पर पहुंचे। जोगी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने एक बयान जारी कर बताया कि कल देर रात मुझे मेरे विधायक दल के नेता धरमजीत सिंह और विधायक दल के सचिव राजेंद्र राय ने जानकारी दी कि उन्होंने भाजपा के प्रत्याशी गम्भीर सिंह का समर्थन करने का निर्णय ले लिया है। विधायक प्रमोद शर्मा और अधिकांश पार्टी कार्यकर्ता भी इस बात पर अपनी सहमति दे चुके हैं। मेरी भाजपा के किसी नेता से आज तक इस संबंध में सीधा संवाद नहीं हुआ है पर मैं अपनी पार्टी के नेताओं की इस राय से पूर्ण रूप से सहमत हूँ।

मेरा अपना मानना है कि वैचारिक रूप से क्षेत्रीय दल और राष्ट्रीय दल में स्थायी समझौता सम्भव नहीं है बशर्ते कि राष्ट्रीय दल हमारी स्वराज की भावना का सम्मान करे। किंतु वर्तमान परिप्रेक्ष्य में जब कांग्रेस ने मेरे स्वर्गीय पिता अजीत जोगी के अपमान को अपने प्रचार का मुख्य केंद्र-बिंदु बना ही लिया है और मेरे परिवार को चुनाव के मैदान से छलपूर्वक बाहर कर दिया है, तो ऐसी परिस्थिति में  मुझे मेरे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का निर्णय स्वाभाविक और सर्वमान्य लगता है। वैसे भी मुझे पूरी उम्मीद है कि ये उपचुनाव न्यायपालिका की चुनाव याचिका की कसौटी में स्वमेव एक साल के भीतर स्थगित हो जाएगा और मरवाही की जनता को अपनी इच्छा अनुसार विधायक चुनने का अवसर एक बार फिर ज़रूर मिलेगा।

ऐसे में आज मेरे सामने एक ही विकल्प है: मैं अपने स्वर्गीय पिता से स्वर्गवास के बाद उन्हें अपमानित कर रहे कांग्रेस के लोगों के विरुद्ध में वोट देने मरवाही के मेरे परिवार से हाथ जोड़के न्याय देने की अपील करता हूँ। जोगी के मरणोपरांत उनका अपमान करने वाले कांग्रेसियों, जो ताउम्र उनके टुकड़े पर पले लेकिन उनके अहसान को उनके तेरवी के पहले ही सत्ता की लालच में भूल गए, को सबक़ सिखाने का इस से बेहतर मौक़ा नहीं मिलेगा।

मैंने अपनी माँ और पार्टी की वर्तमान सुप्रीमो अजीत जोगी की विधवा, और छत्तीसगढ़ के इतिहास की सबसे वरिष्ठ विधायक डॉक्टर श्रीमती रेनु जोगी से इस संबंध में चर्चा की है और वो इस बात से सहमत है। मेरे पिता के स्वर्गवास के बाद हमारी पार्टी- और परिवार- में उनका निर्णय अंतिम होता है।

इसीलिए मैं बड़ी सोच समझकर मरवाही की जनता से कांग्रेस के विरोध में वोट करने की अपील करता हूँ। कांग्रेस का जनता से लूटा पैसा, साड़ी, शॉल, बिछिया, दारू और 15 हजार रुपए प्रति वोट भले ही आप ले लें लेकिन उनकी धमकी में न आएँ और वोट मेरे पिता को अपमानित करने वालों के ख़िलाफ़ ही दें। लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताक़त यही है की वोटिंग मशीन और आपके मतदान के बीच का रिश्ता सर्वथा गोपनीय रहेगा। इसमें किसी की तांक-झांक सम्भव नहीं है।कांग्रेस की एक बार फिर जमानत ज़ब्त कराना हमारा एकमात्र उद्देश होना चाहिए!

सही मायने में यही मरवाही के कमिया अजीत जोगी का असली सम्मान होगा और छत्तीसगढ़ के नव-निर्माण में आपका किया मतदान पहला ठोस कदम होगा। एक बार फिर हमारे छत्तीसगढ़ की नियति और भविष्य मरवाही की जागरूक जनता के हाथों में हैं और मुझे पूरा विश्वास है की वो हमेशा की तरह मेरे परिवार के सम्मान की रक्षा करेंगे।