मध्य प्रदेश

सम्पूर्ण कायाकल्प अभियान में लिनेन सामग्री का वितरण, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने हरी झंडी दिखा कर वाहनों को किया रवाना …

भोपाल। मध्यप्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने सम्पूर्ण कायाकल्प अभियान में प्रदेश की सभी स्वास्थ्य संस्थाओं में उपयोग होने वाली सामग्री को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। सेन्ट्रल वेयरहाउस जिला चिकित्सालय परिसर मालवीय भवन भोपाल से प्रथम चरण में भोपाल संभाग के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा सिविल सर्जन-सह-मुख्य अस्पताल अधीक्षकों को लिनेन सामग्री भेजी गई।

मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से लेकर जिला चिकित्सालय तक सभी नागरिकों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएँ उपलब्ध करवाने के लिए प्रदेश में सम्पूर्ण कायाकल्प अभियान संचालित किया जा रहा है। इसमें स्वास्थ्य संस्थाओं का उन्नयन एवं संस्थाओं में आवश्यक सभी सामग्रियां उपलब्ध करवाई जा रही है।

जिलों तक सामग्री को पहुँचाने के लिए 150 वाहनों की व्यवस्था की गई है। स्वास्थ्य संस्थाओं को भेजी जा रही सामग्री में चादर, गद्दे, कंबल, कंबल के कवर, तकिया तथा तकियों के कवर शामिल है। चादरों पर सप्ताह के दिवस भी अंकित कराए गए हैं, जिससे दिवस अनुसार चादर का उपयोग हो सके। इन सामग्रियों की कुल लागत राशि 9 करोड़ 34 लाख 99 हजार 897 रूपए है।

अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मोहम्मद सुलेमान, आयुक्त स्वास्थ्य सेवाएँ डॉ. सुदाम पी खाडे, संचालक स्वास्थ्य सेवाएँ पंकज जैन और विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

स्वास्थ्य मंत्री ने प्रदेश के सभी सीएमएचओ और सिविल सर्जन को दिए निर्देश

मध्यप्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने प्रदेश के सभी सीएमएचओ और सिविल सर्जन को निर्देश दिए हैं कि सम्पूर्ण कायाकल्प अभियान के कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता दें। उन्होंने कहा कि सभी कायाकल्प अभियान में प्रदेश की समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं की अधो-संरचना को बेहतर और सुदृढ़ किया जाना सुनिश्चित किया गया है।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी मंत्रालय में संपूर्ण कायाकल्प अभियान में जिलों में किए जा रहे कार्यों की वर्चुअल समीक्षा कर रहे थे। एसीएस स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. सुदाम खाड़े और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि सभी स्वास्थ्य संस्थाओं को सामान्य एवं विशेष मरम्मत मद में राशि दी गई है। सामान्य मरम्मत में जन-भागीदारी और जन-प्रतिनिधियों की सहभागिता भी सुनिश्चित की गई है।

इसमें 1625 संस्थाओं द्वारा रंगाई-पुताई, मायनर रिपेयरिंग, प्लंबिंग कार्य, इलेक्ट्रिसिटी वायरिंग जैसे कार्य कराए गए हैं। विशेष मरम्मत में 1120 संस्थाओं में निविदा के माध्यम से वृहद मरम्मत कार्य जैसे छतों की वाटर प्रूफिंग, सीवेज मरम्मत, फ्लोरिंग, इलेक्ट्रिसिटी मेंटेनेंस, बाउंड्री वाल रिपेयर इत्यादि कार्य कराए गए।

Related Articles

Back to top button