मध्य प्रदेश

कांग्रेस नेता की फिसली जुबान: राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को राजीव गांधी की यात्रा बताया …

भोपाल। भारत जोड़ो यात्रा की तैयारी में लगे एक कांग्रेस नेता की जुबान मीडिया से बात करते हुए फिसल गई। उन्होंने इस यात्रा को राहुल गांधी की यात्रा की जगह राजीव गांधी की यात्रा बता दिया। इतना ही नहीं, उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य ही बदल दिया। नर्मदापुरम के कांग्रेस जिलाध्यक्ष सत्येंद्र फौजदार ने कहा कि इस यात्रा का उद्देश्य है कि हम देश से सोई हुई अराजकता और भ्रष्टाचार को जगाना चाहते हैं। उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है और लोग जमकर उनका मजाक उड़ा रहे हैं।

वीडियो में जिलाध्यक्ष सत्येंद्र फौजदार कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और भ्रष्टाचार, अराजकता को जगाने की बात कह रहे हैं। जिलाध्यक्ष अपने इस बयान को लेकर काफी ट्रोल हो रहे हैं। प्रतिद्वंदी पार्टी भाजपा के लोग जिलाध्यक्ष के बयान को लेकर तरह-तरह की बातें लिख रहे हैं, वहीं कांग्रेसी वीडियो को लेकर चुप है। दरअसल, कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर गांव-गांव तक संदेश पहुंचाने की कवायद में जुटी हुई है। इसी बीच नर्मदापुरम जिले के सिवनी मालवा में आयोजित बैठक के दौरान फौजदार की जुबान फिसल गई। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी जी जिस संकल्प से आज भारत जोड़ने के लिए निकले हैं, उस संकल्प को छोटे-छोटे गांव में जनता तक पहुंचाना है। नर्मदापुरम जिले के सिवनी मालवा विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सत्येंद्र फौजदार सहित कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल हुए थे।

पुराने नाम से बोलते रहे फौजदार

राहुल गांधी की यात्रा को राजीव गांधी की भारत जोड़ो यात्रा बताने और देश की अराजकता और भ्रष्टाचार को जगाने की बात कहने वाले सत्येंद्र फौजदार यहां भी नहीं संभले, वे अपने संबोधन में कई बार नर्मदापुरम को होशंगाबाद और माखन नगर को पुराने नाम बाबई ही बोलते रहे।

विश्वास सारंग बोले- कांग्रेस की यही रीति-नीति रही है

इधर, शिवराज कैबिनेट के मंत्री विश्वास सारंग ने सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो को शेयर करते हुए तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस भारत जोड़ो यात्रा के माध्यम से देश में अराजकता फैलाने और भ्रष्टाचार को जगाने का काम कर रही है। कांग्रेस की यही रीति और नीति रही है, अब उनके नेता भी इस बात की गवाही दे रहे हैं।

Related Articles

Back to top button