छत्तीसगढ़बिलासपुर

हाईकोर्ट के एतराज जताने पर हरकत में आए कलेक्टर, फ्लाई ओवब्रिज की स्थिति का जायजा लेने पहुंचे तिफरा…

बिलासपुर। रायपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली तिफरा फ्लाई ओवब्रिज का काम अब तक अधूरा होने के कारण शहरवासियों को आवागमन में परेशानी उठानी पड़ रही है। वहीं हाईकोर्ट ने शासन व जिला प्रशासन से स्टेटस रिपोर्ट मांगा है। कोर्ट को जवाब देने से पहले शुक्रवार को कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर स्थिति का जायजा लेने फ्लाई ओवर ब्रिज पहुंचे । उन्होंने अफसरों को निर्माण कार्य में तेजी लाने का आदेश दिया। मालूम हो कि फ्लाई ओवर ब्रिज का निर्माण 2017 से प्रारंभ किया गया था। जिसे मार्च 2019 में पूरा हो जाना था।

हाईकोर्ट में सड़कों की बदहाली को लेकर दायर जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान न्यायमित्रों ने अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में अधूरे तिफरा ओवरब्रिज का भी उल्लेख किया है। साथ ही बताया है कि ओवरब्रिज शुरू होने के बाद शहरवासियों को काफी हद तक राहत मिलेगी। हाईकोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान तिफरा ओवरब्रिज के संबंध में महाधिवक्ता सतीशचंद्र वर्मा को स्थिति स्पष्ट करने के लिए कहा है।

इस मामले की 14 दिसंबर को सुनवाई होनी है। यही वजह है कि बीते दिनों महाधिवक्ता ने ओवरब्रिज का निरीक्षण किया। हाईकोर्ट में जवाब देने से कलेकटर डॉ. सारांश मित्तर भी हरकत में आ गए हैं। उन्होंने शुक्रवार को तिफरा फ्लाई ओवरब्रिज का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने नगरीय प्रशासन विभाग के साथ ही रेलवे के हिस्से के काम की जानकारी ली। उन्हें बताया गया कि रेलवे के हिस्से का काम चल रहा है और अंतिम चरण में है। इसके बाद दोनों ओर डामरीकरण किया जाएगा।

निरीक्षण के दौरान अफसरों ने कलेक्टर डॉ. मित्तर को बताया कि रेलवे का काम पूरा होने के बाद दोनों ओर डामरीकरण किया जाएगा। अफसरों ने उन्हें 31 जनवरी तक काम पूरा करने का भरोसा दिलाया है। बताया जा रहा है कि इस फ्लाईओवर के निर्माण में रेलवे का रोड़ा था। रेलवे के हिस्से का काम पूरा होने के बाद ओवरब्रिज के निर्माण में तेजी आने की बात कही जा रही है। फ्लाईओवर निर्माण में हुई लेटलतीफी के चलते इसकी लागत भी बढ़ गई है। साल 2017 में शुरू हुए इस काम की लागत 65 करोड़ रुपए थी, जो बढ़कर 70 करोड़ रुपए पहुंच गई है।

Related Articles

Back to top button