छत्तीसगढ़बिलासपुर

नेशनल क्रिकेटर बनाने 61.67 लाख की ठगी, प्राइम क्रिकेट एकेडमी के कोच ने BCCI व स्टेट क्रिकेट संघ का दिया फर्जी सिलेक्शन लेटर, गिरफ्तार …

बिलासपुर । सिविल लाइन थाना क्षेत्र के वेयर हाउस रोड निवासी राखी खन्ना ने अपनी शिकायत में बताया कि उनका बेटा आकाश खन्ना (22) ने दिसंबर 2020 में प्राइम क्रिकेट एकेडमी ज्वाइन किया। इसके डॉयरेक्टर अंजुल दुआ व कोच सन्नी दुआ हैं। दोनों पति पत्नी हैं। उन्होंने उनके बेटे को राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट खिलाने का सपना दिखाया। दिसंबर 2021 में उनके बेटे के साथ ही एकेडमी में खेलने वाले बच्चों व उनके अभिभावकों को ऑल इंडिया गोवा कप होने की जानकारी दी। बताया कि यह नेशनल लेवल का टूर्नामेंट है और इसका सर्टिफिकेट बहुत मायने रखेगा। दोनों मिलकर बच्चों को वहां ले गए और इसके लिए अनाप शनाप पैसे वसूल लिए।

शहर के युवकों को नेशनल लेवल पर क्रिकेट खिलाने के नाम पर ठगी करने वाले प्राइम क्रिकेट एकेडमी के कोच को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। एकेडमी के संचालक और कोच ने मिलकर क्रिकेट खेलने वाले 10 युवकों के पैरेंट्स से 61 लाख 67 हजार रुपए वसूल लिया। साथ ही उन्हें BCCI और छत्तीसगढ़ क्रिकेट संघ का फर्जी सिलेक्शन लेटर थमा दिया। यही नहीं उन्हें मलेशिया में आयोजित क्रिकेट टूर्नामेंट में सिलेक्शन का भी फर्जी प्रमाणपत्र बनाकर दे दिया। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पूरा मामला तोरवा थाना क्षेत्र का है।

राखी खन्ना ने पुलिस को बताया कि उनके बेटे आकाश खन्ना को डायरेक्टर व कोच ने छत्तीसगढ़ स्टेट टीम में सलेक्शन होने का लेटर दिया था, जिसमें सेक्रेट्री बलदेव सिंह का हस्ताक्षर था। बाद में पता चला कि यह लेटर फर्जी है। इसी तरह छत्तीसगढ़ शासन के साथ ही केंद्र सरकार के खेल मंत्रालय के नाम से भी फर्जी लेटर दिया था। इसके साथ ही क्रिकेट खेलने वाले बच्चों को मलेशिया में टी-10 वर्ल्ड क्रिकेट ऐसोसिएशन की प्रतियोगिता में सिलेक्शन और कैंप लगाने के नाम पर फर्जी लेटर दिया गया था और पैसे वसूले गए थे। फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद उन्होंने इस मामले की शिकायत की।

शिकायत में बताया गया कि डायरेक्टर अन्जुल दुआ और कोच सन्नी दुआ ने मिलकर राखी खन्ना से 14 लाख रुपए, संग्राम सिंह राजपूत से चार लाख 10 हजार रुपए, मंजूसा लाल से 12 लाख 70 हजार रुपए, आर्यन चावड़ा से दो लाख 50 हजार रुपए, शीलू परीछा से सात लाख रुपए, अजय कुमार से सात लाख रुपए, अनिल परोहा से पांच लाख रुपए, सुबोध दुबे से छह लाख 60 हजार रुपए, जय प्रकाश प्रसाद से 15 हजार 800 रुपए और मुकेश पाण्डेय से दो लाख 43 हजार रुपए सहित कुल 61 लाख 67 हजार रुपए क्रिकेट कीट, स्कालरशिप देने का झांसा देकर एवं विभिन्न जगहो में क्रिकेट टूर्नामेंट में बाहर ले जाने और फॉरेन ट्रीप सहित अंडर 14 टीम, अंडर 16 टीम, अंडर 23 टीम में सलेक्शन कराने के नाम पर अलग अलग अकाउंट एवं यूपीआई से ट्रांजिक्शन कराया लिया।

तोरवा टीआई उत्तम साहू ने बताया कि मामले की शिकायत पर केस दर्ज किया गया है और जांच की जा रही है। प्रारंभिक जांच के बाद प्रियदर्शनी नगर निवासी एकेडमी के कोच सन्नी दुआ को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस ने बताया कि आरोपी सन्नी दुआ के खिलाफ़ उत्तरप्रदेश के लखनऊ जिले के ग्रामीण थाने में भी 22 अगस्त 2019 को इसी तरह से ठगी करने का एफआईआर दर्ज है, जिस पर उसे जेल भेजा गया था। जमानत मिलने के बाद आरोपी सन्नी दुआ बिलासपुर में आकर क्रिकेट एकेडमी चलाने लगा और यहां भी लोगों से ठगी करने लगा।

Related Articles

Back to top button