Breaking News
.

आने वाले 16 दिन इन राशियों के लिए वरदान के समान, बुध देव की कृपा से होगा लाभ ही लाभ, पढ़ें विस्तृत खबर …

नई दिल्ली । ज्योतिष में सूर्य और शुक्र, बुध के मित्र हैं जबकि चंद्रमा और मंगल इसके शुत्र ग्रह हैं। बुध को बुद्धि, तर्क, संवाद, गणित, चतुरता और मित्र का कारक ग्रह कहा जाता है। बुध ने 20 नवंबर को तुला राशि से वृश्चिक राशि में प्रवेश कर लिया है। 8 दिसंबर तक बुध वृश्चिक राशि में ही विराजमान रहेंगे। बुध वृश्चिक राशि में रहकर कुछ राशियों पर विशेष कृपा करेंगे। आने वाले 16 दिन कुछ राशियों के लिए वरदान के समान रहने वाले हैं। इन राशियों के जातकों को सभी तरह के सुखों का अनुभव होगा। आइए जानते हैं बुध का राशि परिवर्तन किन राशियों के लिए शुभ रहने वाला है….

वृष राशि

व्यापार,व्यापारिक विस्तार धन लाभ में वृद्धि।

परिवार में मांगलिक कार्य की संभावना।

नए साझेदारी का योग एवं लाभ स्थिति।

विद्या में वृद्धि ,डिग्री के लिए उत्तम।

संतान को लेकर सुसमाचार।

जीवनसाथी, दाम्पत्य,प्रेम संबंध में सुधार।

नेतृत्व व बौद्धिक क्षमता में वृद्धि की संभावना।

गुरु कृपा से बदलने वाला है इन राशियों का भाग्य, देखें क्या आप भी हैं इस लिस्ट में शामिल

सिंह राशि

धनेश व लाभेश होकर सुख भाव में।

धनागम और आय के स्रोत में वृद्धि।

परिवार में वृद्धि के लिए समय ठीक।

विद्या अध्ययन, गृह सुख में वृद्धि की स्थिति।

प्रोपर्टी से लाभ, गृह एवं वाहन सुख प्राप्ति।

कार्यस्थल पर कर्मगत प्रगति होगी।

वाणी व्यवसाय से जुड़े लोगों को लाभ।

मातृ स्नेह एवं सहयोग की पूर्ण प्राप्ति।

कन्या राशि

राज्येश एवं लग्नेश होकर पराक्रम भाव में।

स्वास्थ्य एवं मनोबल में बेहतर सुधार।

व्यक्तित्व में वृद्धि,सोचने,कार्य क्षमता में वृद्धि।

सुख एवं आनंद में वृद्धि परंतु अचानक कष्ट।

रुके कार्यो में अवरोध के साथ प्रगति।

परिश्रम करने की इच्छा मे तनाव के साथ वृद्धि

सम्मान में वृद्धि, यश कीर्ति में वृद्धि।

मकर राशि

रोगेश व भाग्येश होकर लाभ भाव में।

भाग्य में वृद्धि ,भाग्य का साथ प्राप्त होगा।

गुप्त शत्रु ,शुगर,लिवर की समस्या से तनाव।

पिता के सहयोग सानिध्य व यश की प्राप्ति।

डिग्री,लेखन व बौद्धिक क्षमता में वृद्धि।

व्यापार में विस्तार एवं व्यापारिक लाभ में वृद्धि।

संतान पक्ष से सुसमाचार।

धनवान होते हैं ये राशि वाले, मां लक्ष्मी की रहती है विशेष कृपा

कुंभ राशि

पंचमेश व अष्टमेश होकर राज्य भाव में।

उत्तम विद्या, डिग्री में तनाव के साथ वृद्धि।

वाणी व्यवसाय से जुड़े लोगों को लाभ।

घरेलू सुख व माता के स्वास्थ्य में सुधार।

गृह एवं वाहन सुख में वृद्धि।

बौद्धिक क्षमता व लेखन शक्ति में वृद्धि।

सन्तान को लेकर थोड़ी चिंता कम होगी।

मीन राशि

सुखेश-सप्तमेश होकर भाग्य भाव में।

सुख में वृद्धि ,सुख के साधनों में वृद्धि।

साझेदारी से लाभ में वृद्धि के संयोग।

जीवनसाथी वैवाहिक एवं प्रेम संबंध में वृद्धि।

गृह एवं वाहन को लेकर वृद्धि में संयोग।

आन्तरिक डर एवं भाग्य में वृद्धि।

व्यापार में विस्तार की स्थिति बनेगी।

माता के स्वास्थ्य सुधारेगा,सम्पति से लाभ।

error: Content is protected !!